गूगल ने बैन किए ये 8 एप, फटाफट अपने फोन से डिलीट कर दें

 22 Aug 2021 03:45 PM

नई दिल्ली। हाल ही के दिनों में क्रिप्टोकरंसी (आभासी मुद्रा) का चलन बढ़ा है। कई लोग अपने पैसे को इसमें इनवेस्ट कर रहे हैं। इनमें से कई लोग ऐसे भी हैं जो बिटकॉइन में पैसा लगा रहे हैं। वहीं कई लोग ऐसे भी हैं जो क्रिप्टोकरंसी के बारे में जानना चाहते हैं। इसके लिए कई एप उपलब्ध हैं। जालसाज लोगों की इसी चाहत का फायदा उठाकर उनके साथ ठगी करते हैं। इसी ठगी से बचाने के लिए हाल ही में गूगल ने 8 एप को बैन कर दिया है। यह एप कथित तौर पर क्रिप्टोकरंसी के नाम पर लोगों से ठगी कर रहे थे।  

 

सिक्यॉरिटी फर्म Trend Micro की रिपोर्ट के मुताबिक, जांच में पाया गया कि 8 खतरनाक एप विज्ञापन दिखाकर और सब्सक्रिप्शन सर्विस का चार्ज लेकर (औसतन 1100 रुपए महीना) और अतिरिक्त चार्ज लेकर यूजर्स को चूना लगा रहे थे। ट्रेंड माइक्रो ने इस बात की जानकारी गूगल प्ले को दी, जिसके बाद उन एप को प्ले स्टोर से हटा दिया गया है। हालांकि प्ले स्टोर से हटाए जाने के बाद भी हो सकता है आपके फोन में अभी भी ये एप काम कर रहे हों।

 

  • BitFunds – Crypto Cloud Mining
  • Bitcoin Miner – Cloud Mining
  • Bitcoin (BTC) – Pool Mining Cloud Wallet
  • Crypto Holic – Bitcoin Cloud Mining
  • Daily Bitcoin Rewards – Cloud Based Mining System
  • Bitcoin 2021
  • MineBit Pro – Crypto Cloud Mining & btc miner
  • Ethereum (ETH) – Pool Mining Cloud

 

रिसर्च साइट ने कहा कि इनमें से दो एप ऐसे हैं जो पेड एप थे जिसे यूजर्स को खरीदना है। Crypto Holic – Bitcoin Cloud Mining एप को डाउनलोड करने के लिए यूजर्स को 12.99 ( लगभग 966 रुपये) देने होते हैं। वहीं Daily Bitcoin Rewards – Cloud Based Mining System को डाउनलोड करने के लिए यूजर्स को 5.99 डॉलर ( लगभग 445 रुपये) देने पड़ते हैं।

 

इसके अलावा ट्रेंड माइक्रो ने यह भी कहा कि अभी भी 120 फेक क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग एप ऑनलाइन उपलब्ध हैं। कंपनी ने अपने ब्लॉग में कहा कि इन एप के पास क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग की क्षमता नहीं है और ये यूजर्स को इन-एप ऐड्स देखने के बहाने धोखा देते हैं। इससे जुलाई 2020 से जुलाई 2021 तक करीब 4500 यूजर्स प्रभावित हुए हैं।

 

रिपोर्ट में कहा गया है कि 120 से ज्यादा नकली क्रिप्टोकरेंसी एप अभी भी ऑनलाइन उपलब्ध हैं। कंपनी ने एक ब्लॉग में लिखा है, क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग के नाम पर लोगों को धोखा देने वाले ये एप्स इन-एप विज्ञापन दिखाते हैं। इन एप ने जुलाई 2020 से जुलाई 2021 तक दुनियाभर में 4500 से ज्यादा यूजर्स को प्रभावित किया है। इस तरह के किसी भी एप को डाउनलोड करने से पहले उसके रिव्यू जरूर पढ़ लें।