टोक्यो पैरालिंपिक : भारत की अवनि लेखरा बनी गोल्डन गर्ल, देश को दिलाया पहला गोल्ड, योगेश ने डिस्कस थ्रो में जीता सिल्वर

 30 Aug 2021 10:00 AM

टोक्यो में चल रहे पैरालिंपिक से एक बहुत ही उत्साहजनक खबर आई है। इस खबर ने देशवासियों की आज की सुबह को खुशनुमा कर दिया है। भारत की निशानेबाज अवनि लेखरा देश की गोल्डन गर्ल बन गई हैं। टोक्यो पैरालंपिक में अवनि लेखरा ने महिलाओं की 10 मीटर एयर राइफल के फाइनल मैच में स्वर्ण पदक जीता है। स्वर्ण पदक जीतने के साथ ही देशभर में खुशी का माहौल बन गया है। वहीं, योगेश कठुनिया ने टोक्यो पैरालिंपिक में डिस्कस थ्रो (एफ56) में सिल्वर मेडल जीता हैं। खिलाड़ियों द्वारा मेडल पर कब्जा जमाने के बाद देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दोनों खिलाड़ियों को बधाई दी है। 

 

 

बता दें कि अवनि ने इस स्पर्धा के क्वालीफिकेशन राउंड में 21 निशानेबाजों के बीच सातवें स्थान पर रहकर फाइनल्स में प्रवेश किया। उन्होंने 60 सीरीज के छह शॉट के बाद 621.7 का स्कोर बनाया जो शीर्ष आठ निशानेबाजों में जगह बनाने के लिये पर्याप्त था। इस भारतीय निशानेबाज ने शुरू से आखिर तक निरंतरता बनाये रखी और लगातार 10 से अधिक के स्कोर बनाये। चीन की झांग कुइपिंग और यूक्रेन की इरियाना शेतनिक 626.0 के पैरालंपिक क्वालीफिकेशन रिकार्ड के साथ पहले दो स्थान हासिल किए।

वहीं, भारत के योगेश कठुनिया ने तोक्यो पैरालिंपिक में पुरुष डिस्कस थ्रो (एफ56) में सिल्वर मेडल जीता है। सोमवार को उन्होंने अपना बेस्ट थ्रो 44.38 मीटर का थ्रो किया। कथूरिया ब्राजील के वर्ल्ड रेकॉर्डधारी बेतिस्ता डोस सैंतोस क्लॉडिने ने 45.59 मीटर का थ्रो किया था। 

 

 

भारत की गोल्डन गर्ल
अवनि भारत की पहली गोल्डन गर्ल बन गई हैं। ओलंपिक में भी आज तक किसी भारतीय महिला ने गोल्ड नहीं जीता। पीवी सिंधु और मीराबाई चानू ने सिल्वर जीता था। ऐसे में अवनि ओलंपिक या पैरालंपिक में गोल्ड जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बन गई हैं। वह पैरालिंपिक खेलों में गोल्ड जीतने वाली सिर्फ चौथी भारतीय खिलाड़ी हैं। पहला गोल्ड मुरलीकांत पेटकर ने 1972 पैरालिंपिक में दिलाया था। दूसरा और तीसरा देवेंद्र झाझरिया ने और चौथा मरियप्पन थंगावेलु ने दिलाया।