श्रीनगर: लाल चौक में कृष्ण जन्माष्टमी की रही धूम, हंदवाड़ा में 1989 के बाद निकली प्रभात फेरी

 31 Aug 2021 02:04 AM

जम्मू।जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से वहां काफी कुछ बदल गया है। सोमवार को श्री कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर कश्मीर के प्रसिद्ध लाल चौक पर कुछ अलग ही नजारा देखने को मिला। दो साल बाद कश्मीरी पंडितों ने सोमवार को यहां भगवान कृष्ण का जन्मदिन मनाने के लिए जन्माष्टमी जुलूस निकाला गया। इससे पहले यही लाल चौक स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर तिरंगे की रंग िबरंगी रोशनियों से नहाया हुआ था। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच जुलूस शहर के हब्बा कदल इलाके के गणपतियार मंदिर से शुरू हुआ और बरबरशाह के क्रालखुद से होते हुए ऐतिहासिक लाल चौक स्थित घंटाघर तक पहुंचा। जुलूस अमीरकदल पुल को पार कर जहांगीर चौक से गुजरा और मंदिर लौट आया। भक्तों ने रथ के साथ नृत्य कर मिठाइयां भी बांटी।

90 के दशक में आतंकियों के डर नहीं निकलती थी शोभा यात्रा

घाटी में 90 के दशक में आतंकी धमकियों के कारण शोभा यात्रा नहीं निकली जाती थी, लेकिन फिर 2004 से एक बार फिर से शोभा यात्रा शुरू की गई। इस बार भी कड़े सुरक्षा इंतजामों के बीच यात्रा संपन्न हुई है। वहीं कोरोना के कारण 2020 में कोई जुलूस नहीं निकाला गया था, जबकि अगस्त 2019 में जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को निरस्त करने के मद्देनजर लगाए गए लॉकडाउन के कारण इस आयोजन को रद्द किया गया था। मुस्लिम समुदाय के लोगों ने भी इसमें हिस्सा लिया है। वहीं हंदवाड़ा में 1989 के बाद से आतंकियों के चलते प्रभात फेरी नहीं निकाली जाती थी, लेकिन इस बार इतने सालों बाद हंदवाडा में प्रभात निकाली गई।