केरल में कंट्रोल नहीं हो रहा कोरोना तमिलनाडु-कर्नाटक में भी बढ़े मरीज

 31 Aug 2021 01:25 AM

नई दिल्ली देश में अभी कोरोना की दूसरी लहर का खतरा समाप्त भी नहीं हुआ कि तीसरी लहर की आशंका बढ़ने लगी है। पिछले 24 घंटे में देश में फिर कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 40 हजार के पार पहुंच गया। इस समय सबसे ज्यादा खतरा केरल, महाराष्ट्र, तमिलनाडु और कर्नाटक में नजर आ रहा है। बढ़ते संक्रमण को देखते हुए केंद्र सरकार के साथ-साथ राज्य सरकारें भी अलर्ट मोड पर आ गई हैं। कुछ राज्यों ने इसके लिए सख्ती बढ़ा दी है। वहीं कुछ राज्य त्योहारी सीजन में बढ़ती भीड़ की आशंका के चलते लॉकडाउन की तैयारी में हैं। इधर पिछले एक हμते में देश में 2.88 लाख से ज्यादा कोरोना के नए मरीज दर्ज किए गए हैं, जबकि पिछले हμते यह आंकड़ा 2.30 लाख के करीब था, इसका मतलब यह हुआ है कि यह आंकड़ा फिर बढ़ता नजर आ रहा है। स्कूल खोलने के लिए तैयार नहीं हैं विशेषज्ञ: इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के डॉ. अनिल गोयल ने कहा कि बच्चों के माता-पिता का भी वैक्सीनेशन नहीं हो पाया है। ऐसे में यदि मां-बाप का ही सही तरीके से वैक्सीनेशन नहीं हो पाया हो तो बच्चों को स्कूल भेजना किसी बड़े खतरे को बुलावा देने जैसा है।

अमेरिका : टीचर की लापरवाही से 26 लोग हुए संक्रमित, 12 साल से कम उम्र के बच्चे भी चपेट में

इधर अमेरिका के कैलिफोर्निया में एक प्राथमिक स्कूल के शिक्षक की गलती का खामियाजा 26 लोगों को भुगतना पड़ा। इनमें 12 छात्र एक ही कक्षा के हैं। इसकी जानकारी अमेरिका की स्वास्थ्य एजेंसी सीडीसी (सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन) ने दी है। इस शिक्षक ने 13-16 मई के बीच बहुत से सार्वजनिक कार्यक्रमों में शिरकत की थी और 19 मई को इसे खुद में कोरोना के लक्षण दिखाए दिए, लेकिन इसे एलर्जी से जुड़े लक्षण समझकर जांच नहीं करवाई। इस दौरान भी शिक्षक बिना मास्क के बच्चों को पढ़ा रहा था जबकि स्कूल में कक्षा के भीतर भी सभी के लिए मास्क लगाना अनिवार्य है। बाद में जब बच्चों में लक्षण दिखे तो शिक्षक समेत 24 छात्रों ने जांच करवाई, इन बच्चों की उम्र 12 साल से कम है, इनमें से 12 संक्रमित पाए गए।

अमेरिका में एक माह में 38 हजार से 2 लाख के करीब पहुंचे संक्रमित बच्चे

विशेषज्ञों ने कहा कि कोरोना संक्रमण का कहर विदेशों में खासकर दिखना शुरू हो गया है। जहां जहां स्कूल खोले गए वहां संक्रमण बच्चों में काफी तेजी से फैला। ताजा उदाहरण अमेरिका और ब्रिटेन का है जहां बच्चों में संक्रमण के मामले पहले की दो लहर की तुलना मे बढ़ गए हैं। अमेरिका में जुलाई के आखिर में एक हμते में 38,000 केस सामने आए. वहीं अगस्त के आखिरी हμते में बच्चों के बीच 1,80,000 केस सामने आए हैं। वहीं लुसियाना में जुलाई के आखिरी सप्ताह में सर्वाधिक 4232 बच्चों में संक्रमण मिला है। ब्रिटेन में हर दिन औसतन 40 बच्चे अस्पताल में भर्ती हो रहे हैं।

बच्चों के साथ कई पैरेंट्स भी कोरोना संक्रमित हो गए

पहली दो पंक्ति में बैठने वाले 10 में से आठ बच्चों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। तीसरी पंक्ति में बैठने वाले 14 छात्रों में से तीन की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद दूसरी कक्षा के छात्र भी संक्रमित मिले। ऐसा माना जा रहा है कि सभी डेल्टा वेरिएंट की चपेट में आए हैं। कुछ बच्चों के माता-पिता और भाई-बहन भी संक्रमित हो गए हैं। जो चार पैरेंट्स संक्रमित मिले हैं, उनमें से तीन का पूरी तरह टीकाकरण हो चुका था।