काबुल में अमेरिकी सेना की बड़ी एयरस्ट्राइक, एयरपोर्ट पर हमला करने जा रहे सुसाइड बॉम्बर को मार गिराया

 29 Aug 2021 09:44 PM

काबुल। अफगानिस्तान के काबुल एयरपोर्ट के पास खाजा बघरा इलाके में अमेरिका ने रविवार शाम बड़ी एयरस्ट्राइक की। इसमें मासूम बच्चे समेत दो लोगों की मौत हो गई। हमले के बाद अमेरिका ने बयान जारी कर बताया कि आईएसआईएस-के का एक सुसाइड बॉम्बर काबुल एयरपोर्ट पर हमला करने वाला था। इससे पहले ड्रोन की मदद से उसे कार समेत उड़ा दिया।

यह हमलावर विस्फोटकों से भरी कार के साथ अफगानिस्तान से निकलने में जुटी अमेरिकी सेना के ऊपर हमला करने की फिराक में था। इस बीच काबुल हवाई अड्डे के पास एक रिहायशी इलाके में रॉकेट हमले की भी रिपोर्ट आई है। शुरुआत में इसे आतंकी हमला समझा गया, लेकिन अमेरिका ने कहा कि यह उनका सैन्य अभियान था। अधिकारियों ने बताया कि अमेरिका ने इस्लामिक स्टेट के खुरासान मॉड्यूल के आतंकवादियों को निशाना बनाया है। सेना ने इसे आत्मरक्षा में किया हमला बताया है।

खुरासान के आतंकी को निशाना बनाने के लिए दागा गया रॉकेट
इससे पहले मीडिया रिपोर्ट्स ने अमेरिकी अधिकारियों के हवाले से कहा कि यह रॉकेट उस गाड़ी पर दागा गया, जिसमें इस्लामिक स्टेट के कई फिदायीन हमलावर थे और काबुल एयरपोर्ट पर अमेरिकी नागरिकों पर हमला करने वाले थे। तालिबान ने भी यही कहा है। इस्लामिक स्टेट खुरासान के आतंकी को निशाना बनाने के लिए रॉकेट दागा गया, यह आतंकी संगठन पश्चिमी देशों और तालिबान दोनों का दुश्मन है। गुरुवार को एयरपोर्ट के पास हुए हमले का जिम्मेदार है। उस फिदायीन हमले में 13 अमेरिकी सैनिक के अलावा 150 से अधिक लोग मारे गए।

मकानों से ऊपर उठता दिखा काला धुंआ
अमेरिकी अधिकारियों ने कहा कि वह शुरुआती जानकारी दे रहे हैं और इसमें कुछ बदलाव हो सकता है। सोशल मीडिया पर सामने आए फुटेज में दिख रहा है कि एक रिहायशी इलाके में मकानों के ऊपर काला धुआं उठ रहा है। लोग गलियों में भागते हुए दिख रहे हैं। अमेरिका के सैनिक और नागरिक अब भी काबुल में मौजूद हैं। ये लोग 31 अगस्त तक वहां से निकल जाएंगे।

काबुल एयरपोर्ट पर 7 बम धमाकों से दहल उठी दुनिया, 13 अमेरिकी सैनिकों समेत 72 की मौत

अमेरिका और तालिबान ने हमले की आशंका जताई थी
इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने धमाके की आशंका जताई थी। उन्होंने चेतावनी दी थी कि अगले 24 से 36 घंटे में काबुल एयरपोर्ट पर आतंकी हमला हो सकता है। उन्होंने शनिवार को वॉशिंगटन में अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा टीम के अधिकारियों से चर्चा के बाद ये बयान दिया था। इसके बाद तालिबान ने भी हमले की आशंका जताई थी। तालिबान ने कहा था कि काबुल एयरपोर्ट पर आईएसआईएस के हमले की आशंका बहुत ज्यादा है। लोगों से कहा था कि वे एयरपोर्ट पर नहीं जाएं।

आईएस पर अमेरिकी स्ट्राइक, एयरपोर्ट अटैक के दो आतंकी ढेर

अमेरिका ने एयरस्ट्रायक करके हमले का बदला लिया था
उधर, गुरुवार को हुए आतंकी हमले की जिम्मेदारी आईएसआईएस-के ने ली थी। इसके बाद अमेरिका ने ब्लास्ट के 48 घंटों के भीतर ही अफगानिस्तान में एयरस्ट्राइक करके बदला ले लिया था। अफगानिस्तान की राजधानी काबुल पर तालिबानियों ने 15 अगस्त को कब्जा कर लिया था, जिसके बाद हालात बदतर हो गए थे।