WHO ने की घोषणा- दुनिया में तीसरी लहर शुरू , भारत भी इस खतरे के करीब

 15 Jul 2021 07:51 PM

जिनेवा/मुंबई। तीसरी लहर आ रही है इन आशंकाओं के बीच वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) ने दुनिया में इसके शुरू होने की घोषणा कर दी है। संगठन के चीफ डॉ. टेड्रोस गेब्रेयेसस ने बुधवार को देशों को चेतावनी दी कि वे कोरोना की तीसरी लहर के शुरुआती फेज में आ चुके हैं। वहीं भारत में UBS सिक्योरिटीज इंडिया ने कहा है कि वायरस के म्यूटेट होने देश में तीसरी लहर की आशंका बहुत कम समय में सच में बदल सकती है।

 

तीसरी लहर के आने की खबरों के बीच UN के मीडिया विंग ने कहा है कि दुनिया भर में लगातार चौथे हफ्ते कोरोना के मामलों में बढ़त दर्ज की गई है। यूरोप और अमेरिका में वैक्सिनेशन के कारण मौतों की संख्या में पिछले दस सप्ताह में गिरावट दर्ज की गई थी।

तीसरी लहर के संबंध में WHO चीफ ने कहा कि वायरस लगातार खुद में बदलाव कर रहा है और ज्यादा संक्रामक होता जा रहा है। वायरस का खतरनाक डेल्टा वैरिएंट अब 111 से ज्यादा देशों में फैल चुका है, अल्फा वैरिएंट 178 देशों में, बीटा 123 देशों में और गामा 75 देशों में मिल चुका है।

 

वैक्सिनेशन के बाद भी फैल रहे मामले :
पिछले 24 घंटों में इंडोनेशिया में 45%, ब्रिटेन में 28%, अमेरिका में 67%, स्पेन में 61% तक मामले बढ़े हैं। ब्राजील में इस दौरान 57 हजार नए केस मिले हैं। मौतों की बात करें तो भारत सबसे आगे है। उसके बाद इंडोनेशिया और बांग्लादेश हैं। भारत में 6 हजार नई मौतें दर्ज की गई हैं।

भारत में खतरा दूर नहीं :

कोरोना की तीसरी लहर के बारे में UBS सिक्योरिटीज इंडिया की चीफ इकोनॉमिस्ट तन्वी गुप्ता जैन ने कहा कि कई देश के कई हिस्सों में पाबंदियों में ढील, बाजार खुलने से तीसरी लहर का खतरा बढ़ गया है। स्थिति ज्यादा खतरनाक इसलिए है क्योंकि भारत में 45 प्रतिशत केस ग्रामीण क्षेत्रों से आ रहे हैं।
तन्वी ने जानकारी दी कि देश के 20 प्रतिशत जिलों में दूसरी लहर का असर खत्म नहीं हुआ है। यहीं से ज्यादातर केस आ रहे हैं।