इंडियनऑयल अगले 5 वर्षों में विस्तार योजनाओं पर 1 लाख करोड़ से अधिक का निवेश करेगा

 30 Aug 2021 01:26 AM

नई दिल्ली विभिन्न एजेंसियों के पूर्वानुमानों में भारतीय धन की मांग वतर्मान 250 मिलियन टन से बढ़कर 2040 तक 400-450 मिलियन टन तक पहुंचने का अनुमान इंडियनऑयल द्वारा इस बढ़ी हुई मांग को पूरा करने के लिए प्रति वर्ष नई परियोजनाओं आरंभ की जाएंगी जिनके जरिये सीपीसीएल सहित 25 मिलियन मीट्रिक टन प्रति वर्ष (एमएमटीपीए) रिफाइनिंग क्षमता का विस्तार होगाा। रिफाइनिंग क्षमता की इन विस्तार योजनाओं पर अगले 4-5 वर्षों में करीब एक लाख करोड़ रुपये का निवेश होने का अनुमान हैं। उक्त आशय की जानकारी कल नई दिल्ली में आयोजित वार्षिक साधारण सभा (एजीएम) में इंडियनऑयल के अध्यक्ष श्रीकांत माधव वैद्य ने दी। उन्होंने बताया कि वित्त वर्ष 2020-21 के लिए इंडियनऑयल ने 21836 करोड़ रुपये का रिकॉर्ड लाभ अर्जित किया है। मौजूदा वित्तीय वर्ष के दौरान सकल शोधन मार्जिन (जीआरएम) पिछले वित्त वर्ष के यूएस डॉलर 0.08 प्रति बैरल की तुलना में बढ़कर यूएस डॉलर 5.64 प्रति बैरल (बीबीएल) हो गया है। इस वित्त वर्ष की पहली तिमाही में, इंडियनऑयल ने पिछले वित्त वर्ष की प्रथम तिमाही के 68.5 प्रतिशत की तुलना में 88.6 प्रतिशत का रिफाइनरी संचालन हासिल किया। इंडियनऑयल के चेयरमैन ने कहा कि पेट्रोल की बिक्री पहले ही कोविड से पहले के स्तर को पार कर चुकी है, अगले 2-3 महीनों में डीजल की बिक्री भी पुराने स्तर पर पहुंचने की संभावना है। श्री वैद्य ने बताया, इलेक्ट्रिक मोबिलिटी क्षेत्र में, भारत में मूल उपकरण निर्माताओं के लिए एल्युमिनियम-एयर बैटरी तकनीक का व्यावसायीकरण करने के लिए इंडियनऑयल और इज़राइली कंपनी फिनर्जी के बीच आईओसी फिनर्जी प्राइवेट लिमिटेड का गठन किया गया है। अनेक अग्रणी ऑटोमोबाइल कंपनियों ने प्रौद्योगिकी और प्रोटोटाइप एकीकरण में गहरी रुचि दिखाई है और फील्ड परीक्षण जल्द ही शुरू होने की उम्मीद है। इस सहयोग से भारत के लिए संभावित लाभ होंगे, जिसमें देश में प्रचुर मात्रा में एल्यूमीनियम भंडार का लाभ उठाकर एक व्यवहार्य और किफायती ई- गतिशीलता समाधान शामिल है।

इंडियनऑयल पेट्रोनास प्राइवेट लिमिटेड के व्यापार के दायरे का विस्तार करेगा

श्री वैद्य ने अपने एजीएम संबोधन में, एक अन्य महत्वपूर्ण पहल के बारे में, कहा कि इंडियन ऑयल मलेशिया की सरकारी तेल और गैस फर्म पेट्रोनास के साथ मिलकर एलएनजी टर्मिनलों को शामिल करने के लिए मौजूदा संयुक्त उद्यम कंपनी इंडियनऑयल पेट्रोनास प्राइवेट लिमिटेड के व्यापार के दायरे का विस्तार करेगा।