रिटायर्ड जज के पास गणपति की 1,500 प्रतिमाओं का कलेक्शन

 11 Sep 2021 01:39 AM

भोपाल भोपाल में रहने वाले प्रिंसिपल डिस्ट्रिक्ट जज (रिटायर्ड) उमेश कुमार गुप्ता के घर में मूर्तियों का अद्भुत कलेक्शन है। पिछले 15 वर्षों में उन्होंने देशभर से गणपति की 1,500 प्रतिमाएं एकत्र की हैं। इसके अलावा उन्होंने गणेश जी की 1,000 ट्राइबल पेंटिंग्स भी इकट्ठा की हैं। वे कहते हैं- 30 साल पहले मैंने सोचा नहीं था कि गणेश जी के कार्ड से शुरू हुआ यह कलेक्शन इतना अद्भुत रूप लेगा कि हजारों गणेश मूर्ति, पेंटिंग्स व कार्ड्स मेरे पास होंगे। उनके पास जो पेंटिंग्स हैं, उनमें भगवान गणेश आदिवासी मान्यताओं के मुताबिक अलग ही रूप दिखते हैं।

इस तरह की गणपति प्रतिमाएं मौजूद

बांस की जड़ से गणेशजी का रूद्र विनायक रूप बनाया गया है।

सागौन की लकड़ी पर बनाए गए हैं गणेश जी।

बस्तर के आदिवासियों द्वारा तैयार बेल मेटल के गणेश जी।

दलाई लामा मोनेस्ट्री से मुखौटा रूप में गणेश प्रतिमा।

दक्षिण भारत के समुद्री तटों के सीप और शंख से बने गणेश जी।

मूंगा और फिरोजा सहित अन्य रत्नों से बनी गणेश प्रतिमा।

मानव संग्रहालय में भी लगाई प्रदर्शनी

कलेक्शन का यह सिलसिला शादी के कार्ड पर बने गणेशजी एकत्रित करने से शुरू हुआ। मैंने देखा कि कार्ड में गणेशजी का फोटो लगाया जाता है, लेकिन वह बाद में पैरों में आते हैं। मैंने जहां भी ऐसे कार्ड देखे, उन्हें कलेक्ट करने लगा। फिर परिचितों से भी शादी के कार्ड पर बने गणेशजी लेने लगा। इस तरह मेरे पास 10,000 फोटो गणेशजी के हैं। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय में भी मेरे इस कलेक्शन की प्रदर्शनी लग चुकी है।