आयुष्मान योजना: किडनी ट्रांसप्लांट के बाद अब आगे का इलाज अपने नजदीकी शहर में करा सकेंगे मरीज

 30 Aug 2021 02:10 AM

भोपाल। किडनी ट्रांसप्लांट का इंतजार कर रहे मरीजों के लिए अच्छी खबर है। अब आयुष्मान कार्डधारी मरीजों को किडनी ट्रांसप्लांट के लिए पांच लाख रुपए की मदद मिल सकेगी। आयुष्मान भारत निरामयम मप्र की टेक्निकल कमेटी ने पैकेज के रेट फिक्स कर दिए हैं। इसमें ये छूट दी गई है कि ट्रांसप्लांट होने के बाद मरीज अपनी इच्छा से नजदीकी शहर के अस्पताल में आगे का इलाज करा सकेगा। यही नहीं, ट्रांसप्लांट के बाद लगने वाली दवाओं के लिए भी पैकेज में राशि तय की गई है। इसमें पैकेज की राशि का चरणबद्ध वर्गीकरण किया गया है। किडनी ट्रांसप्लांट के लिए आयुष्मान योजना से अब तक पैकेज की एकमुश्त राशि फिक्स थी। इस कारण से ट्रांसप्लांट करने वाले अस्पताल को ही पैकेज का भुगतान होता था। नए बदलाव के बाद बड़ी सहूलियत दी गई है। इसमें ट्रांसप्लांट के बाद यदि किसी प्रकार का रिएक्शन हुआ, तो दूसरे अस्पताल में भी पैकेज से इलाज कराया जा सकेगा। अगले एक साल तक की दवाओं के लिए भी पैसे फिक्स किए गए हैं।

पैसे की कमी के कारण बीच में ही छोड़ देते हैं इलाज

यूरोलॉजिस्ट डॉ. पुनीत तिवारी की मानें तो ट्रांसप्लांट के बाद मरीज अस्पताल दूर होने या दूरस्थ जिलों में होने के कारण कई बार आगे का इलाज नहीं करा पाते। कई बार पैसे की कमी से ट्रांसप्लांट के बाद की दवाइयां भी नहीं लेते। ऐसे में ट्रांसप्लांट फेल होने की आशंका बढ़ जाती है। अब आयुष्मान योजना के पैकेज में छूट दी गई है कि मरीज ट्रांसप्लांट के बाद अस्पताल बदल भी सकता है। साथ ही फॉलोअप ट्रींटमेंट के लिए नजदीकी शहर के अस्पताल में दिखाकर दवाइयां ले सकता है। पैकेज में ये सब स्पष्ट होने से मरीजों को बड़ा फायदा होगा।

ऐसे मिलेगी पांच लाख की आर्थिक सहायता
प्रोसिजर का नाम                                                       
पैकेज की राशि
ट्रांसप्लांट सर्जरी, डोनर नेफ्रेक्टॉमी सहित                           2,15,595
इंडक्शन                                                                      39,526
इंटरवेंशन फॉर एक्यूट रिजेक्शन                                       1,07,797
ट्रांसप्लांट के बाद पहले 3 महीनों की दवाओं के लिए            50,000
पोस्ट ट्रांसप्लांट 3 से 6 महीनों की दवाओं के लिए                50,000
पोस्ट ट्रांसप्लांट 6 से 12 महीनों की दवाओं के लिए              50,000 रु.