मास्क बनाकर महिलाएं चला रहीं आजीविका, लॉकडाउन के दौरान काम का निकाला रास्ता

मास्क बनाकर महिलाएं चला रहीं आजीविका, लॉकडाउन के दौरान काम का निकाला रास्ता

जबलपुर । कोरोना महामारी के चलते हर जगह मास्क की बहुत बड़ी आवश्कता है, इसी श्रृंखला में नाबार्ड परियोजना द्वारा संचालित लोक कल्याण भूमिका समिति द्वारा गठित स्वसहा यता समूह की महिलाएं मास्क बना रही हैं। इन महिलाओं को टेनिंग दी गई थी, जिसके कारण बरेला क्षेत्र के 5 स्व-समूह रात दिन मास्क बनाने में लगे हुए हैं,साथ ही शासन द्वारा ये मास्क खरीदे जा रहे जिससे इन महिलाओं की आजीविका भी चल रही है। दरअसल लॉक डाउन के कारण इन महिलाओं को कोई दूसरा काम नहीं मिल रहा था,जिससे अब मास्क बनाकर अपनी आजीविका चला रही हैं।

मोक्ष संस्था भी कर रही सेवा

मोक्ष संस्था के सदस्य भी इन दिनों गरीबों को भोजन वितरण कर पुण्य का कार्य कर रही हैं। मोक्ष संस्था के आशीष ठाकुर के मार्गदर्शन में करीब 6 टीमें बनाकर शहर के अलग-अलग क्षेत्रों गरीब, बेसहारा लोगों को भोजन प्रदान किया जा रहा हैं।

पाटन विधायक विश्नोई व पूर्व विधायक अंचल सोनकर ने भी बांटा राशन

पूर्व विधानसभा क्षेत्र में मंत्री अंचल सोनकर के मार्गदर्शन में कोरोना महामारी को देखते हुए गरीबों के लिए भोजन और राशन की व्यवस्था की जा रही हैं। इसी क्रम में शनिवार को 6 सौ लोगों को राशन और खाने की थाली बांटी। इस अवसर पर राम सोनकर,चंद्रकांत सोनकर राजभाई सहित अन्य लोग थे। इसी तरह कोरोना से संक्रमण के कारण लॉक डाउन होने पर पाटन विधायक अजय विश्नोई द्वारा केन्द्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल की उपस्थिति में जरुरतमंदों को राशन वितरित कराया।

चंदा कर भोजन बनाकर बांटे खाने के पैकेट

कोरोना की महामारी के कारण सामाजिक संस्थाए आगे बढ़कर आगे आ रही हैं। इसी श्रृंखला में सिविल लाइन क्षेत्र स्थित सनराइस कोचिंग के नीचे मनोज मिश्रा, प्रदीप मिश्रा एमपी रजक, रमाशंकर सहित अन्य लोगों के द्वारा चंदा करके स्वयं भोजन बनाकर गरीबों को भोजन वितरित किया जा रहा है। इसी श्रंखला में शनिवार को खमरिया,छुई खदान पहुंचकर इन लोगों ने खुद के वाहन से गरीबों को भोजन के पैकेट वितरित किए, लेकिन सोशल डिस्टेंस का पालन लोग नहीं कर पा रहे हैं, और भीड़ लगा लेते हैं।