अघोषित विद्युत कटौती व पीला-गंदा पानी बर्दाश्त नहीं

अघोषित विद्युत कटौती व पीला-गंदा पानी बर्दाश्त नहीं

ग्वालियर ।  बिजली की अघोषित कटौती और पीले व गंदे पानी की समस्या से निजात पाने के लिए अधिकारी युद्ध स्तर पर कार्य करें। दोनों ही समस्याओं के कारण सरकार की छवि पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है। शहर में बिजली की अघोषित कटौती किसी भी हाल में नहीं होना चाहिए। इसके साथ ही गंदे और पीले पानी का वितरण भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। यह बात खाद्य मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने गुरूवार को संभागायुक्त कार्यालय के सभागार में विद्युत विभाग और नगर निगम के अधिकारियों की संयुक्त बैठक में कही। खाद्य मंत्री तोमर ने कहा कि शहर में बिजली की समस्या से लोग परेशान हैं। लाईनों के सुधार के लिए की जा रही घोषित कटौती के अतिरिक्त अघोषित कटौती के कारण जनमानस में अच्छा प्रभाव नहीं पड़ रहा है। शहर में विद्युत की अघोषित कटौती नहीं होना चाहिए। उन्होंने निर्देश दिए कि विद्युत विभाग के सभी जोन कार्यालयों में कंट्रोल रूम स्थापित किया जाकर 24 घंटे संचालित किया जाए। इसके साथ ही शहर के तीनों उपनगर ग्वालियर, मुरार और लश्कर में एसडीएम कार्यालय में ही कंट्रोल रूम स्थापित किया जाकर विद्युत समस्याओं का निराकरण कराया जाए। तोमर ने कहा कि शहर में विद्युत लाईनों के संधारण का कार्य सुबह 6 से 10 बजे के बीच किया जाए। इसकी जानकारी लोगों को सोशल मीडिया पर भी दी जाए। साथ ही जोन स्तर पर गठित कंट्रोल रूमों में प्रभारी अधिकारी को अनिवार्यत: मोबाइल उपलब्ध कराकर उनके नंबर सार्वजनिक किए जाएं। तोमर ने कहा कि विद्युत वितरण व्यवस्था से जुड़े सभी अधिकारी एवं कर्मचारी टेलीफोन एवं मोबाइल अवश्य उठाएं और उपभोक्ता को संतोषप्रद जवाब भी दें।

पीले एवं गंदे पानी से निजात दिलाएं

तोमर ने पेयजल वितरण व्यवस्था की समीक्षा करते हुए कहा कि लोगों को पीले एवं गंदे पानी की समस्या से निजात मिलना चाहिए। बैठक में तय हुआ कि पीले पानी की समस्या से निजात हेतु नीरी का दल बुलाया जाए। साथ ही कानपुर के विशेषज्ञ विनोद तारे से भी संपर्क कर उन्हें बुलाने का आग्रह किया जाए। विधायक मुन्नालाल गोयल ने कहा कि पानी और बिजली की समस्या के निदान हेतु अधिकारी मुस्तैदी से कार्य करें। बैठक में संभागायुक्त बीएम शर्मा, कलेक्टर अनुराग चौधरी एवं निगमायुक्त संदीप माकिन ने भी दोनों ही समस्याओं के निराकरण हेतु ठोस कार्रवाई करने का आश्वासन दिया।

तिघरा फिल्टर प्लांट के लिए दें सेपरेट फीडर

खाद्य मंत्री तोमर ने निर्देश दिए कि तिघरा स्थित फिल्टर प्लांट पर वर्तमान में विद्युत सप्लाई ग्रामीण फीडर से की जा रही है। ग्रामीण फीडर की लाईट जाने से निगम का फिल्टर प्लांट भी प्रभावित होता है। विद्युत विभाग फिल्टर प्लांट के लिए अलग से फीडर उपलब्ध कराए, इसके लिए नगर निगम आयुक्त आवश्यक धनराशि जमा कराए। निगम द्वारा राशि जमा कराने के एक माह में सेपरेट फीडर उपलब्ध कराया जाए।