स्मार्ट सिटी परियोजना में प्रबुद्धजनों के सुझाव भी लिए जाएं : शेजवलकर

स्मार्ट सिटी परियोजना में प्रबुद्धजनों के सुझाव भी लिए जाएं : शेजवलकर

ग्वालियर। शहरवासियों को स्मार्ट सिटी परियोजना से जोड़कर बुद्धिजीवियों से स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत सुझाव लिए जाएं। समाज के विभिन्न वर्गों के साथ संवाद कर इसके कार्यों को गति दी जाए। स्मार्ट सिटी के तहत एबीडी क्षेत्र के बाहर किस तरह से विकास कार्य संभव हो सकते हैं। इसका प्रस्ताव तैयार किया जाए। यह बात सांसद विवेक शेजवलकर ने स्मार्ट सिटी एडवाइजरी फोरम की बैठक में कही। सांसद शेजवलकर ने बैठक में कहा कि स्मार्ट सिटी द्वारा शहर और शहर के बाहर सूत्रसेवा के तहत चलाई जा रही बसों का फायदा शहर की जनता को ज्यादा से ज्यादा मिले, इसका विशेष ध्यान रखा जाए। उन्होंने शहर में चल रहे विकास कार्यों की समीक्षा करते हुए कहा कि जो विकास कार्य पूर्ण हो चुके हैं, उन्हें जनप्रतिनिधियों को दिखाकर शहर की जनता को जल्द समर्पित किए जाएं। साथ ही जो परियोजनाएं गतिशील हैं, उनका रोडमैप बनाकर समय-सीमा में पूर्ण किया जाए। खाद्य मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा कि स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत एडीबी क्षेत्र के साथ ही पेन सिटी क्षेत्र में भी विकास के कार्य किए जाना चाहिए। इसके लिए आवश्यक हो तो प्रस्ताव तैयार कर उस पर निर्णय कराया जाए। उन्होंने कहा कि स्मार्ट क्लास परियोजना में एक क्लास के साथ ही पूरे स्कूल को स्मार्ट स्कूल किस प्रकार बनाया जाए, इस पर कार्य किया जाना चाहिए। निगमायुक्त संदीप माकिन ने बताया कि स्मार्ट सिटी परियोजना में एबीडी क्षेत्र बाडे के साथ पेन सिटी के तहत एबीडी क्षेत्र के बाहर भी कार्य किए जा रहे हैं। इन क्षेत्रों में होगा काम स्मार्ट सिटी सीईओ महिप तेजस्वी ने बताया स्मार्ट सिटी परियोजना में 11 मॉड्यूल्स पर 89 प्रोजेक्टों पर कार्य किया जाना है। इनमें क्षेत्र आधारित विकास, एबीडी क्षेत्र के 8 मॉड्यूल पर 54 प्रोजेक्टों में 1.611 करोड़ रूपए तथा सम्पूर्ण शहर विकास (पेन सिटी) के तीन मॉड्यूल पर 35 प्रोजेक्टों में 532 करोड़ रूपए के कार्य शामिल हैं। इस परियोजना में हैरीटेज एवं कल्चरर, मोबिलिटी, हाउसिंग, सोलिड वेस्ट मैनेजमेंट, सस्टेनबिलिटी, रिक्रेशन और सोशल अपग्रेडेशन, टेक्नोलॉजी, इकोनोमिक डेवलपमेंट, इंफ्रास्ट्रक्चर एवं इंटेलिजेंट आॅपरेशंस कंट्रोल यूनिट शामिल हैं।

आॅटो और विक्रम के लिए कमेटी गठित

स्मार्ट सिटी कोर एरिया महाराज बाड़े पर आॅटो एवं विक्रम के संचालन के संबंध में आॅटो यूनियन द्वारा की जा रही मांग को देखते हुए एक कमेटी का गठन किया गया है। इस कमेटी में जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन, नगर निगम, आरटीओ और स्मार्ट सिटी सलाहकार समिति के सदस्यों को रखा गया है। यह समिति अपनी रिपोर्ट 15 दिन में प्रस्तुत करेगी। रिपोर्ट के आधार पर ही महाराज बाड़े पर आॅटो एवं विक्रम के संचालन पर निर्णय लिया जाएगा।