पहली बार पुलिस मुख्यालय पर पुलिस का प्रदर्शन मांगे माने जाने के आश्वासन पर 10 घंटे बाद धरना खत्म

पहली बार पुलिस मुख्यालय पर पुलिस का प्रदर्शन मांगे माने जाने के आश्वासन पर 10 घंटे बाद धरना खत्म

नई दिल्ली। दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट के बाहर 2 नवंबर को पुलिस और वकीलों के बीच हिंसक झड़प का मुद्दा मंगलवार को और गरमा गया। पहली बार दिल्ली पुलिस के सैकड़ों जवानों ने दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। जवानों ने नारे लगाए- ‘हमारा सीपी कैसा हो, किरण बेदी जैसा हो।’ पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक समेत आला अफसर जवानों से प्रदर्शन वापस लेने की गुहार करते रहे, लेकिन करीब 10 घंटे यानी रात 8 बजे तक जवान धरने पर बैठे रहे। कई चरण में हुई बातचीत के बाद अफसरों ने पुलिसकर्मियों को उनकी मांगें माने जाने का आश्वासन दिया, तब जाकर पुलिसकर्मी धरने से हटे। इससे पहले उनके परिजनों ने दिल्ली-चंडीगढ़ नेशनल हाईवे जाम कर दिया। उधर, गृह मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि मामले की न्यायिक जांच चल रही है। जांच के नतीजे का इंतजार करना चाहिए। 

केंद्र की कोर्ट से मांग, आदेश को संशोधित करें

गृह मंत्रालय ने मंगलवार को हाईकोर्ट में याचिका लगाई है। इसमें 3 नवंबर के कोर्ट के आदेश को संशोधित करने की मांग की गई। दरअसल, कोर्ट ने वकीलों पर कड़ी कार्रवाई न करने का आदेश दिया था। गृह मंत्रालय की मांग है यह आदेश हर घटना पर लागू न हो। 

मोदी है तो मुमकिन है :

कांग्रेस 72 साल में पहली बार पुलिस प्रदर्शन पर है। क्या ये है बीजेपी का न्यू इंडिया? देश को बीजेपी कहां ले जाएगी? कहां गुम है गृह मंत्री अमित शाह? मोदी है तो मुमकिन है। -रणदीप सुरजेवाला का ट्वीट 

तीस हजारी कोर्ट विवाद के बाद दिल्ली पुलिस का जोश ‘लो’ पुलिसकर्मियों की मांग