किसानों ने की शिकायत, कांग्रेस सरकार ने नहीं किया कर्जा माफ

किसानों ने की शिकायत, कांग्रेस सरकार ने नहीं किया कर्जा माफ

इंदौर। लोकसभा चुनाव में भाजपा प्रत्याशी शंकर लालवानी का जनसंपर्क के दौरान धुआंधार स्वागत हो रहा है। बुधवार को उन्होंने सांवेर विधानसभा में जनसंपर्क किया। इस दौरान उनका घर,द्वार और चौपाल पर महिलाओं ने तिलक लगाकर हार पहनाकर स्वागत किया। यहां किसानों ने उनसे कर्ज माफ नहीं होने की बात भी कही। उनका कहना था कि वे कर्ज माफी के लिए इधर-उधर भटकते रहे, लेकिन उनकी सुनवाई नहीं हुई। गांव से शहर की दूरी कम हुई: नुक्कड़ सभाओं में लालवानी ने कहा कि भाजपा के कार्यकाल में ग्राम और शहर की दूरियां कम हुई। सड़कों का जाल बिछाया गया है। गांवों में विद्यालय खुले और स्वास्थ्य सेवाएं सुचारू हुई। कांग्रेस सरकार बनी, तब से फिर बंटाढार राज शुरू हो गया है। बिजली गुल होने लगी। इसका दोष विद्युत मंडल कर्मचारियों पर मढ़ा गया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के मंत्री और नेता बड़बोले बयान देकर अकड़ दिखा रहे हैं। जनसंपर्क के दौरान हर वर्ग के मतदाताओं में उत्साह था। युवा और उससे अधिक उम्र के मतदाताओं के अलावा वरिष्ठ मतदाताओं ने भी भाजपा और शंकर लालवानी के समर्थन का वादा किया।

पंकज संघवी को लालवानी ने लिखी खुली चिट्ठी

भाजपा प्रत्याशी शंकर लालवानी ने कांग्रेस प्रत्याशी पंकज संघवी को खुली चिट्ठी लिखी है। इसमें उल्लेख किया है कि जातिगत राशि से शहर को नुकसान होगा। विकास रुकने से आने वाली पीढ़ियों को भी खामियाजा भुगतना होगा। जाति की राजनीति मेरे परिवार में है, पार्टी में नहीं। आप हार की हताशा में भले ही किसी स्तर पर जाकर राजनीति करें, मैं राजनीति में शुचिता बनाए रखूंगा। भाजपा पूरी ताकत से उसूलों और सच्चाई के रास्ते पर चलकर लोकसभा सीट जीतेगी और देश में नरेंद्र मोदी की सरकार बनवाएगी। मेरे द्वारा आयोजित कराए जाने वाले मालवा उत्सव में हर जाति, धर्म के मानने वाले कलाकार आते हैं। वहां एक लघु भारत बसता है,लेकिन हमें तो देश की लोककलाएं दिखाई देती है। किसी की जाति तो हमने आज तक नहीं देखी। अपने कामों के लिए हमारे नाम नौ वर्ल्ड रिकार्ड भी हैं। आप भी अपने काम बताएं और लोगों को फैसला करने दीजिए।

भाजपा प्रत्याशी पर दर्ज होगी एफआईआर

चुनाव चिह्न वाले वस्त्र पहनाए जाने के मामले में बुधवार को जिला निर्वाचन कार्यालय ने भाजपा प्रत्याशी शंकर लालवानी पर एफआईआर कराने का आदेश दिया। लालवानी से जुड़े इस वाकये का वीडियो सोशल मीडिया पर पहले ही वायरल हो चुका है। जिला निर्वाचन अधिकारी लोकेश कुमार जाटव ने बताया कि, मैंने खजराना मंदिर मामले की जांच के बाद पाया है कि इसमें आदर्श आचार संहिता की शर्तों का उल्लंघन किया गया है। उन्होंने बताया कि मामले में भारतीय दंड विधान के प्रावधानों के साथ धार्मिक संस्था दुरुपयोग निवारण अधिनियम 1988 के तहत एफआईआर होगी। ज्ञात हो कि इस मामले में कांग्रेस ने मप्र के मुख्य निर्वाचन अधिकारी से शिकायत की थी।