कांग्रेस सरकार बनते ही लालटेन युग की शुरुआत

कांग्रेस सरकार बनते ही लालटेन युग की शुरुआत

जबलपुर। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद एक दिन भी जनता चैन से नही रही और हर मुद्दे पर विफल प्रदेश सरकार द्वारा झूठा बिजली संकट पैदा कर जनता को परेशान करना दर्शाता है कि इन्हें जन सुविधाओं से सरोकार नहीं है यह आरोप लगाते हुए भारतीय जनता पार्टी जबलपुर महानगर द्वारा तीन पत्ती चौक से ढोल नगाड़े बजाते हुए लालटेन यात्रा निकाली गई। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में कमलनाथ सरकार की नाकामी के कारण पैदा हुए भीषण बिजली संकट को लेकर भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद राकेश सिंह ने प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों में लालटेन यात्रा निकालकर सरकार की नाकामी जनता को बताने का आह्वान किया था और इस प्रदेशव्यापी आंदोलन के तहत भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा लालटेन यात्रा निकाली गई। भाजपा की लालटेन यात्रा तीन पत्ती चौक से प्रारम्भ हुई जो मालवीय चौक, लॉर्डगंज चौक, बड़ा फुहारा, अंधेरदेव, करमचंद चौक, नौदरा ब्रिज होते हुए वापस तीन पत्ती चौक में समाप्त हुई।

जमकर बजे ढोलन-गाडे

इस विरोध यात्रा में कार्यकर्ताओं ने ढोल नगाड़े बजाते हुए हाथ में लालटेन लेकर प्रदेश सरकार के विरोध में गगनभेदी नारे लगाए और जनता को उनकी नाकामी से अवगत कराया। लालटेन यात्रा के अंत में कार्यकर्ताओं द्वारा अंधेरे के स्वरूप का पुतला दहन किया गया।

चिमनी यात्रा के नाम पर ढकोसला व ढोंग कर रही भाजपा: अयोध्या

मप्र कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता अयोध्या तिवारी ने भाजपा की चिमनी यात्रा को ढकोसला व ढोंग बताया है। उन्होंने बताया कि कमल नाथ सरकार ने भाजपा शासनकाल की तुलना में नागरिकों को अधिक बिजली दी है। भाजपा शासनकाल से कांग्रेस शासन में दी गई बिजली कई मिलियन यूनिट अधिक है। श्री तिवारी ने आंकड़े गिनाते हुए कहा कि दिसंबर से मई तक कुल 40,872 मिलियन यूनिट बिजली प्रदान की गई है।जो कि तत्कालीन भाजपा सरकार द्वारा बीते वर्ष 2018 की तुलना में प्रदान की गई बिजली आपूर्ति36297 से 4575 मिलियन यूनिट ज्यादा है। वहीं घोषित-अघोषित शट-डाउन की संख्या में भी ढाई हजार की कमी आई है। उन्होंने बताया कि जहां प्रदेश के 8 बड़े शहरों भोपाल,इंदौर, ग्वालियर,जबलपुर, रीवा,उज्जैन,सागर,शहडोल आदि में मई 2019 में 2761 बार शट डाउन लिया गया,वहीं वर्ष 2018 में इन शहरों में 5331 बार शट डाउन लिया गया था। यह वर्तमान व्यवस्था में स्पष्ट सुधार का संकेत है।