कर्नाटक में मध्यावधि चुनाव की बात कहकर पलटे एचडी देवगौड़ा

कर्नाटक में मध्यावधि चुनाव की बात कहकर पलटे एचडी देवगौड़ा

बंगलूरू। कर्नाटक में राजनीतिक संकट को लेकर रोजाना तरह-तरह की खबरें सामने आती रहती है। कभी सत्ता पर काबिज कांग्रेस और जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) के बीच जारी मनमुटाव देखने को मिलता है। तो कभी भाजपा पर राज्य सरकार को अस्थिर करने की कोशिश करने का आरोप लगता है। शुक्रवार को पूर्व प्रधानमंत्री और जेडीएस के नेता एचडी देवगौड़ा ने ऐसा बयान दिया जिससे कि यह साफ हो गया कि गठबंधन पार्टी के बीच सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। उन्होंने राज्य में मध्यवधि चुनाव की आंशका जाहिर की। हालांकि अपने पूर्व के बयान से वह कुछ देर में ही पलट गए और कहा कि राज्य में अगले चार साल तक सरकार कायम रहेगी। 

मैंने नहीं कहा था कि यह गठबंधन होना चाहिए

देवगौड़ा ने कहा, मैंने नहीं कहा था कि यह गठबंधन होना चाहिए। मैं आज भी कह रहा हूं और कल भी कहूंगा। कांग्रेस हमारे पास आई और कहा कि चाहे जो हो जाए आपका बेटा मुख्यमंत्री बनेगा। उस समय मैं नहीं जानता था कि उनके बीच सहमति थी या नहीं। लगता है कि लोकसभा चुनाव के बाद कांग्रेस ने अपनी ताकत खो दी है। 

हमारी तरफ से कोई खतरा नही है

पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा, हमारी तरफ से कोई खतरा नही है। मुझे नहीं पता कि यह सरकार कब तक टिकी रहेगी। सरकार का टिके रहना कुमारस्वामी नहीं बल्कि कांग्रेस के हाथ में है। हमने अपनी एक जगह भी कैबिनेट में उन्हें दे दी है। जैसा उन्होंने कहा हमने वह सब किया। कांग्रेस का बर्ताव किस तरह का है इसे जनता देख रही है।  

गठबंधन को लेकर किया अहम खुलासा

उन्होंने कर्नाटक में गठबंधन को लेकर अहम खुलासा किया। देवगौड़ा ने कहा कि वह कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे को मुख्यमंत्री के तौर पर देखना चाहते थे। उन्होंने कहा कि मैं गठबंधन के लिए गोंद की तरह था। राहुल गांधी और सोनिया गांधी ने कीर्ति आजाद और अशोक गहलोत को बंगलूरू भेजा था। जहां हम तीनों ने बैठक की।  

2018 विधानसभा की स्थिति

कुल सीटें: 224 बहुमत: 113

पार्टी - सीटें - वोट शेयर (%)

भाजपा - 104 -  36.2

कांग्रेस - 80 - 39

जेडी (एस) - 37 - 18.3

अन्य - 3 - 6.5