सोलर एनर्जी का प्लान, ग्रीन बॉन्ड से 500 करोड़ जुटाएंगे

सोलर एनर्जी का प्लान, ग्रीन बॉन्ड से 500 करोड़ जुटाएंगे

इंदौर। नगर पालिक निगम का बजट सम्मेलन बुधवार से शुरू हो गया। अपने निगम कार्यकाल के आखिरी बजट में मेयर मालिनी गौड़ ने बताया कि ‘नगर निगम ने जनता पर कोई भार नहीं डाला गया है। न तो कोई नया कर लगाया गया है और ना ही किसी कर की दर में वृद्धि की गई है।’ चुनावी वर्ष में बिना कर वाला बजट शहर के वाशिंदों को राहत देने वाला है लेकिन इस बार उन्हें कोई बड़ी सौगात भी नहीं मिल रही है। बजट में स्मार्ट सिटी के पुराने कामों को आगे बढ़ाने की बात कही गई है। इसके अलावा महू नाका चौराहा पर ग्रेड सेपरेटर का निर्माण करने का प्रावधान किया गया है। इसके साथ ही शहर में दो नए बस स्टैंड बनाने, लोन लेकर मास्टर प्लान की सड़कों का निर्माण करने का प्रावधान किया गया है, इसके साथ ही निगम के द्वारा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ग्रीन बॉन्ड जारी कर 500 करोड़ रुपए का लोन जुटाने का लक्ष्य रखा गया है। नगर निगम के द्वारा शहर में पांच पेट्रोल पम्प खोले जाएंगे। ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर में दो दिवसीय बजट सम्मेलन के पहले दिन महापौर ने अपने कायर्काल का अंतिम बजट आज पेश किया। महापौर मालिनी गौड़ ने बुधवार को इंदौर नगर निगम का 5647 करोड़ 10 लाख 10 हजार रुपए की आय और 5574 करोड़ 40 लाख 68 हजार रुपए की अनुमानित व्यय के साथ 96 करोड़ 79 लाख 56 हजार रुपए के घाटे का अनुमानित बजट पेश किया। बजट सम्मेलन में महापौर ने बताया कि इंदौर को स्वच्छता में तीन बार अवार्ड दिला कर हमने इंदौर का नाम पूरे देश ही नहीं पूरे विश्व में रोशन किया है। पंद्रह सौ से ज्यादा कचरा पेटी हटाई, एक हजार से अधिक खुले स्थानों पर कचरे के ढेर शहर में दिखाई देते थे। यूनाइटेड नेशन ने बैंकॉक में इंदौर को एशिया पेसिफिक देशों के शहरों के लिए इंदौर को रोल मॉडल घोषित किया है।

ग्रेड सेपरेटर का होगा निर्माण

स्मार्ट सिटी परियोजना अंतर्गत ग्रेड सेपरेटर का निर्माण किया जाएगा। इसकी लागत 50 करोड़ है। शहर के पश्चिम क्षेत्र के विभिन्न मुख्य मार्ग महूनाका चौराहा पर आकर मिलते हैं। इस स्थान पर 6 मुख्य मार्ग लालबाग मार्ग, केसरबाग रोड, अन्नपूर्णा मार्ग, लक्ष्मणसिंह गौड़ मार्ग, बियाबानी मार्ग और एमओजी लाइन मार्ग मिलने से यातायात का दबाव रहता है। तकनीकी विशेषज्ञों ने इस स्थान पर ग्रेड सेपरेटर निर्माण की जरूरत बताई है।

हर वर्ष बिजली की बचत होगी

देश में पहली बार इंदौर नगर निगम के द्वारा नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के माध्यम से बॉन्ड जारी कर राशि जुटाई गई है। अब नमर्दा परियोजना के लिए 100 मेगावॉट क्षमता का सोलर एनर्जी प्लांट लगाने की पहल की जा रही है। इसके लिए लंदन स्टॉक एक्सचेंज के माध्यम से अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बॉन्ड जारी कर 500 करोड़ रुपए जुटाए जाएंगे। इस प्लांट के बन जाने से नगर निगम को हर वर्ष बिजली की 18 करोड़ रुपए की बचत होगी।

लोन लेकर बनाई जाएंगी मास्टर प्लान की सड़कें

महापौर ने अपने भाषण में कहा कि इंदौर नगर निगम द्वारा हाल ही में एमआर-3 एमआर-5, एमआर-9, एमआर-11 और आरई-2 के रूप में मास्टर प्लान की सड़कों के निर्माण की पहल की गई है। 20 किमी की यह सड़कें 180 करोड़ की लागत से बनेगी। इन सड़कों के के लिए 5 वर्ष का शार्ट टर्म लोन लिया जाएगा। यह लोन नागरिकों से वसूल किए जाने वाले बेटरमेंट चार्ज से चुकाया जाएगा।

निगम में जन गण मन रोककर वंदे मातरम् गाया

नगर निगम में बजट पेश करने के दौरान बुधवार को राष्ट्रगान रोक दिया गया। इसके तुरंत बाद राष्ट्रगीत वंदे मातरम् शुरू किया गया। इस पर विपक्ष ने तीखी प्रतिक्रिया जाहिर की। नेता प्रतिपक्ष फौजिया शेख अलीम और कांग्रेस पार्षदों ने राष्ट्रगान के अपमान की शिकायत एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र से की है। बजट सत्र शुरू होते ही जन गण मन शुरू किया तभी महापौर मालिनी गौड़ और एमआईसी सदस्य सूरज कैरो ने मेज थपथपा कर गीत रुकवा दिया। व्यवस्था के तहत हमेशा वंदे मातरम् गायन शुरू होता रहा है और समाप्ति पर राष्ट्रगान, लेकिन बजट बैठक के दौरान जन गण मन अधिनायक का गायन शुरू हो गया तो इसे रुकवा दिया। इस संबंध में नेता प्रतिपक्ष फौजिया शेख अलीम ने कहा कि राष्ट्र गान का अपमान करने वाले एमआईसी सदस्य एवं अन्य के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई करने की मांग हमने की है।

महापौर द्वारा प्रस्तुत बजट आंकड़ों का मायाजाल है : कांग्रेस

इंदौर नगर पालिक निगम की नेता प्रतिक्ष फौजिया शेख अलीम ने बताया कि महापौर मालिनी गौड़ द्वारा लगभग 3 माह के विलंब के पश्चात प्रस्तुत किए गए बजट वर्ष 2019- 20 का जो कि लगभग 97 करोड़ के घाटे का बजट है । महापौर द्वारा प्रस्तुत यह 5 वां बजट इंदौर शहर के लगभग 30 लाख नागरिकों तथा निगम कर्मचारियों एवं सफाई कामगारों के लिये निराशाजनक है। नेता प्रतिपक्ष ने बताया कि महापौर द्वारा प्रस्तुत बजट में दिए गए अधिकांश आंकड़े गत वर्ष के बजट के आंकड़ों से मेल खा रहे हैं। गत वर्ष के बजट में उल्लेख अनुसार 75 प्रतिशत कार्य वर्तमान समय तक पूर्ण नहीं हुआ है। ऐसे में महापौर द्वारा वही बजट के आंकड़े इस वर्ष के बजट में भी प्रस्तुत कर दिए हैं। महापौर का लगभग 6 माह का कार्यकाल शेष रहा है तथा 3-4 माह पश्चात नगर निगम चुनाव की आचार संहिता लग जाएगी। ऐसी अवस्था में मात्र 3 माह का समय बजट अनुसार कार्य करने का समय शेष रहेगा। इन तीन माह में बजट अनुसार कार्य कैसे होगे? यह प्रश्न शहर के लाखों नागरिकों के सामने उपस्थित हो रहा है।