बैंक और वित्तीय कंपनियों के शेयरों में बिकवाली से सेंसेक्स 383 अंक टूटा

बैंक और वित्तीय कंपनियों के शेयरों में बिकवाली से सेंसेक्स 383 अंक टूटा

मुंबई। कमजोर वैश्विक संकेतों के बीच अगस्त शृंखला के वायदा एवं विकल्प कारोबार के समापन के चलते बैंकिंग एवं वित्तीय कंपनियों के शेयरों में बिकवाली से बृहस्पतिवार को बीएसई सेंसेक्स 383 अंक टूट गया। दिनभर के कारोबार में काफी अधिक उतार-चढ़ाव के बाद 30 शेयरों पर आधारित सेंसेक्स 382.91 अंक यानी 1.02 प्रतिशत की गिरावट के साथ 37,068.93 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स एक समय 36,987.35 अंक तक नीचे लुढ़क गया था। इसी तरह एनएसई निμटी 97.80 अंक 0.89 फीसदी की गिरावट के साथ 11,000 अंक से नीचे रहकर 10,948.30 अंक पर बंद हुआ। अमेरिका और चीन के सितंबर में व्यापार वार्ता के अगले दौर की तैयारी करने से जुड़ी खबरों के बीच अधिकतर एशियाई बाजार लाल अंकों में बंद हुए। एसबीआई, एचडीएफसी, एक्सिस बैंक, कोटक बैंक, येस बैंक, आईटीसी, आरआईएल, एमएंडएम, टाटा मोटर्स और आईसीआईसीआई बैंक के शेयरों में गिरावट दर्ज की गयी। दूसरी ओर सन फार्मा, वेदांता, एनटीपीसी, ओएनजीसी, एशियन पेंट्स, इन्फोसिस और एचयूएल के शेयरों में 5.31 फीसदी तक की बढ़त देखने को मिली। विश्लेषकों का कहना है कि वैश्विक स्तर पर मंदी की चिंताओं के बीच वायदा एवं विकल्प खंड के साप्ताहिक एवं मासिक अनुबंधों के समापन के कारण घरेलू बाजार में उथल-पुथल देखने को मिली। 

रुपया तीन पैसे टूटा

 अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दुनिया की प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर में आई मजबूती और घरेलू स्तर पर शेयर बाजार में बिकवाली के दबाव में अंतरबैंकिंग मुद्रा बाजार में गुरुवार को रुपया तीन पैसे टूटकर 71. 80 रुपए प्रति डॉलर पर लुढ़क गया। पिछले दिवस यह 71.77 रुपए प्रति डॉलर पर रहा था। आज शुरूआत से ही रुपया पर दबाव दिखा। रुपया 71.96 रुपए प्रति डॉलर पर खुला। हालांकि इसके बाद इसमें कुछ सुधार हुआ और यह 71.70 रुपये प्रति डॉलर के दिवस के उच्चतम स्तर तक चढ़ा। इसी दौरान शेयर बाजार में बिकवाली शुरू हो गई और वैश्विक स्तर पर डॉलर मजबूत होने लगा जिसके कारण रुपया पर दबाव बना जिससे यह 71.09 रुपए प्रति डॉलर के निचले स्तर तक फिसल गया।