फॉर्च्यून बिजनेसपर्सन ऑफ द ईयर लिस्ट में सत्या नडेला टॉप पर, भारतीय मूल के 2 और सीईओ भी लिस्ट में शामिल

फॉर्च्यून बिजनेसपर्सन ऑफ द ईयर लिस्ट में सत्या नडेला टॉप पर, भारतीय मूल के 2 और सीईओ भी लिस्ट में शामिल

वॉशिंगटन। माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला फॉर्च्यून की बिजनेसपर्सन ऑफ द ईयर 2019 लिस्ट में टॉप पर रहे। इस सूची में दुनिया के 20 ऐसे सीईओ चुने गए हैं, जिन्होंने मुश्किल लक्ष्यों को साधा, असंभव मौकों को भुनाया और क्रिएटिव तरीके से समाधान तलाशे। लिस्ट में नडेला के अलावा भारतीय मूल के अजय बंगा और जयश्री उलाल ने भी जगह बनाई है। मास्टरकार्ड के सीईओ बंगा 8वें और अरिस्ता की हेड उलाल 18वें नंबर पर हैं। 

फॉर्च्यून बिजनेसपर्सन ऑफ द ईयर के टॉप-10 सीईओ

नाम                                                                  रैंक

सत्या नडेला, माइक्रोसॉफ्ट (यूएस)                           1

एलिजाबेथ गेन्स, फोर्ट्स्क्यू मेटल ग्रुप (ऑस्ट्रेलिया)       2

ब्रायन निकॉल, चिपोटले मैक्सिकन ग्रिल (यूएस)          3

मारग्रेट कीन, सिंक्रोनी फाइनेंशियल (यूएस)               4

ब्रॉन गुल्ड, प्यूमा (जर्मनी)                                        5

ट्रिसिया ग्रिफिथ, प्रोग्रेसिव (यूएस)                             6

फेब्रिजिओ फ्रेडा, एस्टे लॉडर (यूएस)                        7

अजय बंगा, मास्टरकार्ड (यूएस)                              8

डब्ल्यू क्रेग जेलनेक, कोस्तको (यूएस)                      9

जेमी डायमन, जेपी मॉर्गन चेज (यूएस)                   10  

नडेला के आने से बढ़ा माइक्रोसॉफ्ट का रेवेन्यू

सत्या नडेला 2014 में माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ बने थे। इसके बाद 2018-19 में माइक्रोसॉफ्ट का मुनाफा 39 अरब डॉलर और रेवेन्यू 126 अरब डॉलर रहा। कंपनी की तीन साल की एनुअल रेवेन्यू ग्रोथ रेट 11% और प्रॉफिट ग्रोथ 24% है। माइक्रोसॉफ्ट अप्रैल में पहली बार 1 ट्रिलियन डॉलर के मार्केट कैप पर पहुंची थी। एपल समेत दुनिया की 4 कंपनियां ही यहां तक पहुंची हैं।  

मास्टरकार्ड के शेयर में इस साल 40% तेजी

अजय बंगा 2010 से मास्टरकार्ड के सीईओ हैं। फोर्ब्स का कहना है कि उनके विजन से मास्टरकार्ड को नई पहचान मिली है। कंपनी के शेयर में इस साल 40% तेजी आ चुकी है। जयश्री उलाल 2008 में सिस्को छोड़कर अरिस्ता की सीईओ बनी थीं। उनके नेतृत्व में अरिस्ता ओपन सोर्स क्लाउड सॉμटवेयर में स्पेशलाइज्ड मार्केट लीडर बन गई। कंपनी का आॅपरेटिंग मार्जिन पिछले साल 31.5% पहुंच गया, जबकि सिस्को का 28% था।