राहत: शहडोल से आई संदिग्ध महिला की मौत हुई ‘इंफ़्लुएंजा-ए’ से, सभी 14 रिपोर्ट्स आईं निगेटिव

राहत: शहडोल से आई संदिग्ध महिला की मौत हुई ‘इंफ़्लुएंजा-ए’ से, सभी 14 रिपोर्ट्स आईं निगेटिव

जबलपुर । सुखद संयोग है कि रविवार का दिन कोरोना वायरस के संक्रमण से संबंधित खबरों को लेकर राहत भरा रहा। शहडोल से आई संदिग्ध महिला की मौत के बाद दोपहर तक शहर में हड़कंप मचा रहा लेकिन जब उसकी मौत का कारण इंफ़्लुएंजा-ए से पीड़ित होने के रूप में सामने आया और आईसीएमआर से निगेटिव रिपोर्ट मिली तो सारी अटकलों पर विराम लग गया। शनिवार की शाम से लेकर रविवार को ग सभी 14 रिपोर्ट्स भी निगेटिव आ हैं। गौरतलब है कि शहडोल के धनपुरी निवासी आदेश यादव सउदी अरबिया के आबूधाबी में काम करता है, उसकी वापिसी 10 दिन पूर्व हुई थी पिछले तीन- चार दिन से आदेश की पत्नी 35 वर्षीय पत्नी दीपिका यादव की तबियत बिगड़ गई थी। पहले से अस्थमा, ब्लड प्रेशर तथा थायराईड आदि से पीड़ित दीपिका की अस्वस्थता के दौरान सामने आए लक्षणों को प्रथम दृष्टया कोरोना संक्रमण से जोड़ कर देखा गया। शहडोल में जिला प्रशासन तथा स्वास्थ्य विभाग के अमले ने धनपुरी का चीप हाउस इलाका सील कर पति तथा पत्नी को इलाज के लिए जबलपुर रवाना कर दिया।

रात साढ़े 12 बजे किया भर्ती

मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. प्रदीप कसार के मुताबिक दीपिका यादव को रात 12.30 बजे यहां भर्ती कराया गया। उपचार के दौरान दीपिका की तड़के 4.30 बजे मौत हो गई। शहडोल से ही दीपिका का सैम्पल आईसीएमआर भेज दिया गया था, जिसकी रिपोर्ट शाम को निगेटिव आई है।

बंद रही ओपीडी

रविवार को मेडिकल तथा विक्टोरिया दोनों ही अस्पतालों की ओपीडी बंद रहीं, हालांकि पीड़ित लगातार पहुंचते रहे और उन्हें आकस्मिक चिकित्सा केंद्र के जरिए उपचार प्रदान कराया गया। विक्टोरिया में 138 तथा मेडिकल में 140 मरीजों को उपचार प्रदान किया गया। वहीं टेली मेडिसिन के जरिए 156 मरीजों को परामर्श प्रदान किया गया।

संक्रमण रोकने लगातार हो रही कवायद

वर्तमान में कोरोना वायरस के 8 पॉजिटिव मरीज आसोलेटेड हैं। इसके अलावा 5 विक्टोरिया तथा 13 सुखसागर अस्पताल में आसोलेशन वार्ड में भर्ती किए गए हैं विदेश से आए तथा वायरस को जबलपुर में फैलाने वाले मुकेश अग्रवाल से जुड़े हुए लोगों पर लगातार निगरानी की जा रही है। जिम्मेदार अमले का प्रयास यही है कि हर हाल में संक्रमण थम जाए और पॉजिटिव रिपोर्टों से मुक्ति मिल जाए।

प्रोटोकॉल के तहत किया अंतिम संस्कार

वर्तमान परिस्थितियों में संदिग्ध तथा पॉजिटिव मरीजों के लिए एक गाइड लाइन तैयार की गई है और उसी गाइड लाइन के तहत दीपिका यादव का अंतिम संस्कार किया गया है। यहां यह भी गौरतलब है कि जिस समय दीपिका का अंतिम संस्कार जबलपुर में करने का निर्णय लिया गया, उस समय तक आईसीएमआर से उसकी रिपोर्ट नहीं आई थी, शाम को आई रिपोर्ट पति आदेश यादव को भी निगेटिव बताया गया है। इसके अलावा और भी जो सैम्पल भेजे गए थे, सभी की रिपोर्ट आईसीएमआर ने निगेटिव भेजी है।