RBI सरप्लस फंड से सरकार को देगी 1.76 लाख करोड़ रु, सस्ते होंगे लोन, बढ़ेगी इकोनॉमी

RBI सरप्लस फंड से सरकार को देगी 1.76 लाख करोड़ रु, सस्ते होंगे लोन, बढ़ेगी इकोनॉमी

नई दिल्ली। आरबीआई ने केंद्र सरकार को लाभांश और सरप्लस फंड के मद से 1.76 लाख करोड़ रुपए ट्रांसफर करने का फैसला किया है। केंद्रीय बैंक ने एक बयान में कहा कि आरबीआई निदेशक मंडल की सिफारिश पर 1,76,051 करोड़ रुपए सरकार को ट्रांसफर किए जाएंगे। इसमें 2018-19 के लिए 1,23,414 करोड़ के सरप्लस और 52,637 करोड़ रुपए अतिरिक्त प्रावधान के रूप में चिह्नित किए गए हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि सरकार को मिले इस फंड से आम आदमी को काफी राहत मिलेगी। लोगों की नौकरियां नहीं जाएंगी।

शेयर बाजार में बनेगा पैसा :

एक्सपर्ट की मानें तो राहत पैकेज की घोषणा और बाजार में लिक्विडिटी बढ़ने से शेयर बाजार में तेजी देखने को मिलेगी।

म्युचुअल फंड :

सरकार इस फंड से वित्तीय संकट से जूझ रहे सेक्टर को राहत दे सकती है। इसका असर स्टॉक मार्केट में दिखेगा। मार्केट में तेजी से म्यूचुअल फंड के निवेशकों को फायदा होगा।

सस्ते मिलेंगे कर्ज :

सरप्लस फंड सरकार बैंकों में डालेगी। सरकार पहले ही सरकारी बैंकों में 70 हजार करोड़ रुपए की पूंजी डालने की घोषणा कर चुकी है। बैंकों में पूंजी डालने से लिक्विडिटी बढ़ेगी। सरप्लस कैश होने पर बैंक सस्ता कर्ज देते हैं। इससे वस्तुओं और सेवाओं की मांग बढ़ती है यानी कंजम्शन में बढ़ोतरी होती है, जो देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है।

घर खरीदारों को मिल सकती है राहत :

रियल एस्टेट सेक्टर को रिवैमप करने के लिए सरकार सरप्लस फंड का इस्तेमाल कर सकती है। देशभर में चल रहे आम्रपाली, यूनिटेक और जेपी जैसे लटके प्रोजेक्ट्स पूरा करने के लिए सरकार वित्तीय मदद दे सकती है। इससे लोगों को उनका आशियाना मिल सकेगा, जिसका वे लंबे समय से इंतजार कर रहे हैं।