प्रभात फेरी सुबह, माधव ज्योति यात्रा और भजन संध्या शाम को होगी

प्रभात फेरी सुबह, माधव ज्योति यात्रा और भजन संध्या शाम को होगी

ग्वालियर   कैलाशवासी माधवराव सिंधिया की 18 वी पुण्यतिथि पर कांग्रेस के अलावा अन्य सामाजिक संगठनों द्वारा अनेक कार्यक्रम तय किए हैं। सुबह प्रभातफेरी, पुष्पाजंलि और शाम को माधव ज्योति यात्रा निकाली जाएगी और उसके बाद छत्री मैदान में भजन संध्या का भी आयोजन किया गया है। कांग्रेस कार्यालय में शहर कांग्रेस अध्यक्ष देवेन्द्र शर्मा, बाल खांडे, पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल ने संयुक्त रूप से बताया कि 30 सितंबर को माधवराव की 18 वी पुण्यतिथि पर हर साल की तरह इस बार भी कई कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं। इनमें प्रमुख कार्यक्रम माधव ज्योति यात्रा का है। रामनारायण मिश्रा और उनकी टीम द्वारा यह ज्योति यात्रा नदीगेट से 30 सितंबर को शाम चार बजे शुरू होगी और छत्री पहुंचकर समाप्त होगी। वहीं ज्योति को स्थापित किया जाएगा। इसके बाद भजन संध्या का कार्यक्रम रखा गया है। भजन संध्या में राजा मान सिंह तोमर संगीत विश्वविद्यालय की गायिका पारुल दीक्षित तथा पारूल बांदिल एवं भजन गायक राकेश जैन एवं वृंदावन से आए परमानंद महाराज द्वारा भजन प्रस्तुत कि ए जाएंगे।

फल वितरण भी होंगे

शहर अध्यक्ष देवेन्द्र शर्मा ने बताया कि कई जगह कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा फल वितरण भी किया जाएगा।माधव अंधाश्रम, निराश्रित आश्राम, वृद्धा आश्रम में कार्यक्रम होंगे।

धर्मगुरु देंगे आशीर्वाद : पुण्यतिथि समारोह में सभी धर्म से जुड़े धर्मगुरुओं द्वारा आशीर्वाद दिया जाएगा। एमआईटीएस में सुबह 10 बजे 250 छात्रों द्वारा रक्तदान किया जाएगा। पत्रकारवार्ता का संचालन प्रवक्ता धर्मेन्द्र शर्मा ने किया। इस मौके पर सुरेन्द्र शर्मा भी मौजूद रहे।

‘कार्यकर्ताओं का सदैव ख्याल रखते थे स्व.माधवराव

’स्व.माधवराव सिंधिया एक ऐसा व्यक्तित्व थे जो सदैव अपने कार्यकर्ताओं की चिंता करते थे। जब भी कोई वाक्या हुआ तो व कायकर्ताओं की न सिर्फ चिंता करते बल्कि उनके लिए खडे भी होजाते थे। यह बात वक्ताओं ने महिला नेत्री रमा पाल की संगोष्ठी में बोलते हुए कही। रमा पाल पिछले दस साल से संगोष्ठी कर रहीं हैं। कांग्रेस कार्यालय पर अपरान्ह तीन बजे संगोष्ठी में बोलते हुए शहर अध्यक्ष डा. देवेन्द्र शर्मा ने पुराने संस्मरणों को ताजा करते हुए कहा कि माधवराव जी ने एक बार मुझसे इस्तीफा देने के लिए कहा तो मैने दे दिया। बस इसी बात पर उनकी आंखू में आंसू आ गए और बोले, मै ज्योतिरादित्य और तुम्हे एक रूप में देखता हूं। इससे माधवराव जी के संबंधों का पता चलता है। पूर्व विधायक रामवरण सिंह गुर्जर,पूर्व जिलाध्यक्ष अशोक शर्मा, सुनील शर्मा, पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल, बाल खांडे, महाराज सिंह पटेल,जेएच जाफरी ने भी भी संस्मरण सुनाए। कार्यक्रम की संयोजिका रमा पाल ने भी स्व.माधवराव सिंधिया को याद किया और कहा कि स्व.सिंधिया को छोटे से छोटे कार्यकर्ताओं की चिंता रहती थी। संगोष्ठी में यह बात भी चर्चा में रही कि मंत्री और विधायक बनने के बाद भी लोगों ने स्व.सिंधिया को भुला दिया है। जबकि चुनाव से पहले यह लोग स्व.सिंधिया के नाम के जयकारे लगाते घूमते थे। अब यह लोग कार्यक्रम तक में नहीं आते। संगोष्ठी में सुरेन्द्र शर्मा, प्रवक्ता धर्मेन्द्र शर्मा, शीतल अग्रवाल, माधवी डिगे सहित क ई लोग मौजूद थे।