खतरे से गाफिल लोग, सब्जी मंडी में 11 बजे पुलिस के डंडे से भागी भीड़

खतरे से गाफिल लोग, सब्जी मंडी में 11 बजे पुलिस के डंडे से भागी भीड़

जबलपुर । कोरोना वायरस के खतरे के बीच प्रशासन और जिम्मेदारों की लाख दुहाई के बावजूद बाज नहीं आते दिख रहे हैं। लगातार 3 दिनों से पीपुल्स समाचार निवाड़गंज सब्जीमंडी में उमड़ रही भीड़ के विषय में आपको जानकारी दे रहा है। बजाय सीख लेने के लोग लगातार सब्जी लेने यहां पहुंच रहे हैं और सोशल डिस्टेंस के नियम की धज्जियां उड़ा रहे हैं। ऐसे में वे खुद के लिए,अपने परिवार के लिए और समाज के लिए कितना बड़ा खतरा बन रहे हैं शायद खुद भी नहीं जानते। निवाड़गंज सब्जी मंडी में अल सुबह से लेकर करीब 11 बजे तक यह भीड़ रोजाना देखी जा रही है। शुक्रवार को नगर निगम के अमले ने कुछ लोगों से माइक पर आग्रह भी किया मगर यह अपील दरकिनार कर लोग सब्जियां लेने ऐसे बेताब रहे कि एक दूसरे को धकियाने में भी पीछे नहीं रहे। ऐसे माहौल में यदि कोई कोरोना वायरस पॉजीटिव भी सब्जी लेने पहुंच गया तो इसका अंजाम क्या होगा ये सोच कर भी रूह कांप उठती है।

प्रशासन ने लिया संज्ञान

शुक्रवार को गढ़ा कछपुरा लिंक रोड पर पुलिस ने ठेले वालों क खड़ा किया और यहीं से सब्जी बेचने के लिए कहा है। शहर में अलग-अलग स्थानों पर इस तरह के सब्जी बाजार लगवा दिए गए हैं ताकि लोग एकसाथ निवाड़ गंज या कृषि उपज मंडी तक न जाएं। अब देखना है कि लोग इससे कितनी सीख लेते हैं।

हद दर्जे की मुनाफाखोरी, आलू-प्याज 40 से 50 रुपए किलो

सब्जी हर घर में रोज लगने वाली वस्तु है। हालाकि गत दिवस से प्रशासन ने सब्जी के ठेले वालों को बस्तियों व कॉलोनियों में जाकर सब्जी बेचने की अनुमति दी है और ये नजर भी आ रहे हैं। हालाकि इनके रेट दोगुने जरूर हैं। हफ़्ते भर पहले 15 से 20 रुपए किलो मिलने वाले आलू-प्याज के दाम दोगुने से भी अधिक कर दिए गए हैं।

भूखों को भोजन वितरण करने में संस्थाएं भी निभा रहीं अपनी सहभागिता

इंडियन रेडक्रास सोसायटी जबलपुर द्वारा कलेक्टर भरत यादव के मार्गदर्शन में विभिन्न समाजसेवी संस्थाओं और सेवाभावी व्यक्तियों के सहयोग से जरूरतमंद व्यक्तियों तक मदद पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है। इस क्रम में जीतो जबलपुर चैप्टर एवं दिगंबर जैन युवा महासंघ के सहयोग से दिन में 90 फूड पैकेट एवं शाम को ड्यूटी पर तैनात पुलिस एवं प्रशासन के व्यक्तियों के लिए 400 चाय बिस्किट का वितरण मोक्ष संस्था के आशीष ठाकुर व उनके साथियों के सहयोग से किया गया। मोक्ष संस्था को रेडक्रॉस द्वारा 500 मास्क नि:शुल्क प्रदाय किए गए जिसका उनके द्वारा जरूरतमंदों को वितरण किया गया।

5 जगह शुरू हुई दीनदयाल रसोई

दीनदयाल अंत्योदय रसोई योजना के तहत वर्तमान संकट को देखते हुए इसका विकेन्द्रीकरण किया गया है। नगर निगम व जिला प्रशासन ने शहर के 5 अलग-अलग स्थानों पर से इस योजना का संचालन शुरू कर दिया गया है। शुक्रवार को इस योजना के अंतर्गत गरीब-मजदूरों को शहर के 5 स्थानों से भोजन करवाया गया है। गौरतलब है कि दीनदयाल अंत्योदय रसोई योजना का संचालन विगत 4 वर्षों से किया जा रहा है। यह योजना राजा गोकुलदास धर्मशाला से संचालित होती है और वर्तमान लॉक आउट की स्थिति में यह मांग हो रही थी कि शहर के विस्तार कोदेखते हुए योजना को अलग-अलग क्षेत्रों से शुरू कराया जाए। इस मांग को स्वीकारते हुए प्रशासन ने शहर के 5 स्थानों से योजना का संचालन शुरू कर दिया गया है।

आरपीएफ ने दिखाई संवेदना, बांटा भूखों को भोजन

वहीं रेलवे स्टेशन के आ सपास रहने वाले गरीबों,बेसहारा लोगों को भोजन नहीं मिल रहा है। ऐसे में आरपीएफ टीम ने संवेदना दिखाते हुए शुक्रवार को ऐसे गरीबों को भोजन वितरित करने का पुण्य कार्य किया है। स्टेशन परिसर में रोजाना घूमने वाले और भीख मांगकर पेट भरने वाले ऐसे गरीबों को ढूंढ-ढूंढ कर आरपीएफ के जवानों ने भोजन बांटा। आरपीएफ टीआई वीरेन्द्र सिंह के नेतृत्व में आरपीएफ की टीम ने विगत कई दिनों से अपना यह अभियान जारी रखा है।

सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराना सबका दायित्व: शिवराज

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आव्हान पर कोरोनॉ संकट के दौरान पूरे मप्र में लॉक डाउन किया गया है साथ ही जबलपुर सहित कुछ शहरों में कर्फ्यू लगाया गया है इसमें सबसे महत्वपूर्ण सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल आप सभी को अपने अपने क्षेत्र के कराना है और जनता को होने वाली परेशानियों को हल करने का प्रयास करना है यह बात मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये जबलपुर के जनप्रतिनिधियों से कही। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सरकार उन सभी की मदद का पूरा प्रयास कर रही जो इस लॉक डाउन और कर्फ्यू में भोजन, दवा इत्यादि की परेशानी का सामना कर रहे है और आप सभी को भी इस प्रयास में अपना योगदान देना है साथ ही जरूरत की वस्तुओं हेतु जो निर्णय सरकार ने लिए है उसका पालन भी कराना है। मुख्यमंत्री की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में संभाग आयुक्त कार्यालय एवं कलेक्ट्रेट में विधायक अजय विश्नोई, अशोक रोहाणी, सुशील तिवारी इंदु, पूर्व मंत्री शरद जैन, हरेन्द्रजीत सिंह बब्बू, भाजपा नगर अध्यक्ष जीएस ठाकुर, ग्रामीण अध्यक्ष रानू तिवारी, डॉ जितेंद्र जामदार के साथ संभाग आयुक्त, आईजी, कलेक्टर, एसपी शामिल हुए।

घबराने की नहीं सतर्कता की जरूरत : राकेश

जबलपुर। कोरोना जैसे वैश्विक महामारी से हमे घबराने की नही अपितु सतर्कता की जरूरत है और इससे बचाव का सबसे महत्वपूर्ण कदम सिर्फ और सिर्फ घरों में रहना है। यह बात सांसद राकेश सिंह ने कही। सांसद श्री सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से दूरभाष पर चर्चा करते हुए जबलपुर में कोरोना संकट की परिस्थितियों से अवगत कराया। मुख्यमंत्री ने साँसद श्री सिंह से कहा कि प्रदेश सरकार पूरी तरह से जनता के साथ है और जबलपुर सहित ऐसे सभी जिलों जहां जहां कोरोनॉ संक्रमित लोग या संदिग्ध लोग है उन पर विशेष नजर रखी जा रही है और किसी भी तरह से इसे पूरे तौर पर समाप्त करने के लिए सभी को सरकारी निदेर्शो का परिपालन पूर्ण रूप से करना होगा।