पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण को सम्मानति करेगा संयुक्त राष्ट्र

पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण को सम्मानति करेगा संयुक्त राष्ट्र

हरिद्वार। देश और दुनिया में योग एंव आयुर्वेद का डंका बजाने वाले पतंजलि योगपीठ के आचार्य बालकृष्ण को संयुक्त राष्ट्र सम्मनित करेगा। बाबा रामदेव ने बुधवार को प्रेस(एजेंसी) में बताया कि पूरे देश के लिए गौरव की बात है कि संयुक्त राष्ट्र ने पतंजलि संस्थान के आचार्य बालकृष्ण को स्वास्य सेवाओं में योगदान के लिए विश्व के 10 सबसे प्रभावशाली लोगों की श्रेणी में स्थान दिया गया है। बाबा रामदेव ने प्रेस(एजेंसी) को संबोधित करते हुए कहा कि हमारा लक्ष्य किसी सूची में स्थान प्राप्त करना नहीं बल्कि मानवता की सेवा करना है। पतंजलि विश्व स्वास्य सुधार पर वर्षों से कार्य कर रहा है। पतंजलि के माध्यम से भारतीय चिकित्सा पद्धति योग व आयुर्वेद को सम्पूर्ण विश्व में पुन: स्थापित कर करोड़ों साध्य-असाध्य रोगों से पीड़ित रोगियों को स्वास्य लाभ मिला है। आचार्य बालकृष्ण ने प्रेस(एजेंसी) में बताया कि संयुक्त राष्ट्र ने 25 मई को स्विट््जरलैंड के जेनेवा में आयोजित होने वाली यू.एन.एस.डी.जी. हेल्थ समिट में उन्हें स्पीकर के रूप में आमंत्रित किया गया है। उन्होंने बताया कि यह आयोजन वर्ल्ड हेल्थ फोरम द्वारा किया जा रहा है और इसका लक्ष्य वैश्विक सार्वजनिक स्वास्य और विकास को मंच प्रदान करना है जिससे प्राइमरी हेल्थ केयर, नॉन कम्युनिकेबल डिजीज कंट्रोल और डिजिटल हेल्थ को बढावा मिल सके । उन्होंने बताया कि सम्मेलन में 50 देशों के लगभग 500 प्रतिभागी भाग लेंगे । आचार्य बालकृष्ण को आयुर्वेद और योग के उत्थान एंव नवीन अनुसंधान के प्रति समर्पण के लिए इस प्रतिष्ठित पुरस्कार के लिए चुना गया है । आचार्य बालकृष्ण यूएनएसडीजी में भारत की और से व्याख्यान भी देगें ।