खुद के 36 पार्क, फिर भी 7 लाख पौधे बाहर से खरीदेगा नगर निगम

खुद के 36 पार्क, फिर भी 7 लाख पौधे बाहर से खरीदेगा नगर निगम

जबलपुर ।  हर साल लाखों रुपए के पौधे खरीदकर नगर निगम बारिश में पौधरोपण का आयोजन करता आया है। खुद ननि के पास 3 दर्जन उद्यान हैं जिनमें से भंवरताल तथा डुमना नेचर पार्क में तो जगह की कमी ही नहीं है। इसके बावजूद वह अब तक अपनी नर्सरी तैयार नहीं कर पाया है,न ही उसकी ऐसी कोई योजना ही है। खबर है कि इस वर्ष नगर निगम 7 लाख पौधे रोपित करने वाला है। इसके पहले 3 लाख व और इसके पहले 1 लाख पौधे नर्सरी व बाहर से मंगवाए जा चुके हैं। हर साल लाखों की संख्या में पौधे मंगवाकर भारी-भरकम राशि नगर निगम खर्च करता है। उसके अपने पास इतनी जगह है कि वह अच्छी खासी नर्सरी खुद संचालित भी कर सकता है और इससे आय भी अर्जित कर सकता है।

पानी की टंकियां भी बेहतर जगह

शहर में नई बनी 16 टंकियों के अलावा 40 टंकियां पहले से हैं। इनके नीचे की जगह खाली पड़ी है। ज्यादातर में अस्थाई अतिक्रमण हो चुके हैं। इनकी जगह को सुरक्षित करवाकर नीचे नर्सरी तैयार करवाई जा सकती हैं। जिससे अतिक्रमण की समस्या तो दूर होगी ही,साथ ही पेयजल जैसी अनिवार्य व आवश्यक चीज के संग्रहण के टैंक भी सुरक्षित रहेंगे।

ये होगा फायदा

यदि नगर निगम अपनी नर्सरी तैयार करता है तो उसे न तो अलग से कर्मचारियों की जरूरत पड़नी है और न ही विशेष खर्च की। उद्यान विभाग में कर्मचारियों की कमी नही ंहै। ये सभी गार्डनिंग में सिद्धहस्त होते हैं। ऐसे में हर साल पौधों की खरीद पर होने वाला खर्च बच सकता है और ननि नर्सरी से पौधों का विक्रय भी कर आय अर्जित कर सकता है।

ये हो सकते हैं बेहतर विकल्प

यदि नगर निगम चाहे तो डुमना नेचर पार्क में बढ़िया और बड़ी नर्सरी तैयार की जा सकती है। यहां पर जगह की कोई कमी नहीं है। आराम से कई प्रजाति के पौधे व बीज भी यहां उपलब्ध हैं। कम खर्च में यहां पर पौधे तैयार किए जा सकते हैं। जिन्हें नगर निगम तो उपयोग में ले ही सकता है साथ ही कम लागत में या मुμत में संस्थाओं और पौधरोपण करने के इच्छुक जनों को वितरित कर सकता है। इसके अलावा भंवरताल में भी जगह की कमी नहीं है यहां पर भी नर्सरी तैयार करने का विकल्प मौजूद है। हालाकि ननि के पास 3 दर्जन उद्यान हैं जहां नर्सरी तैयार हो सकती हैं। हर उद्यान में छोटी-छोटी नर्सरी बनाई जा सकती हैं।