हाईकोर्ट में तलघरों की दी सूची तक सीमित हुआ ननि, नए पर ध्यान नहीं

हाईकोर्ट में तलघरों की दी सूची तक सीमित हुआ ननि, नए पर ध्यान नहीं

ग्वालियर। निगम द्वारा तलघरों पर कार्यवाही केवल हाईकोर्ट में पेश सूची तक सिमट कर रह गई है। यहीं कारण है कि निगम परिषद में पार्षदों द्वारा अपने अपने क्षेत्रों में सूची से बाहर पुराने व नए तलघरों के धड़ाधड़ निर्माण पर आपत्ति कर पार्षदों ने मौके पर दिखाने की चुनौती दी गई थी। लेकिन मामले में मिलीभगत के चलते मामला रफादफा होता नजर आ रहा है। हाईकोर्ट में तलघरों पर कार्यवाही कर पार्किंग व्यवस्था लागू करवाने के फेर में निगम द्वारा ग्वालियर विधानसभा के 7 क्षेत्रीय कार्यालयों में कुल 182 तलघरों में से अभी तक 73 पर कार्रवाई कर पार्किंग करवाई जा चुकी है और 22 को बंद कर दिया गया है। जबकि 52 तलघरों पर कार्रवाई होना शेष है। इसी क्रम में ग्वालियर पूर्व विधानसभा क्षेत्र के 7 क्षेत्रीय कार्यालय क्षेत्र में कुल 407 तलघरों में से 149 पर पार्किंग के बाद 49 को बंदकर 159 पर कार्रवाई होनी है, तो ग्वालियर दक्षिण विधानसभा के 7 क्षेत्रीय कार्यालय क्षेत्र में 464 तलघरों में 108 तलघरों में पार्किंग कर 44 बद करवाने के बाद 253 तलघरों पर कार्रवाई होना अभी भी शेष है और लंबे बहुत दिनों से निगम अधिकारियों के उठापटक के दौर के बीच कार्रवाई नहीं हो पा रही है। डाक सहायक की परीक्षा पास करने फर्जी परीक्षार्थी बैठाया, 55 साल की सजा चतुर्थ अपर सत्र न्यायाधीश सुरेंद्र कुमार श्रीवास्तव ने 22 जून 14 डाक सहायक पद के लिए हुई परीक्षा में परीक्षार्थी मनोज कुमार ने परीक्षा पास करने के लिए परीक्षा में अपने स्थान पर पवन कुमार सैनी को बैठाया था। ग्वालियर में सरस्वती शिशु मंदिर ज्येंद्रगंज में हुई परीक्षा में पर्यवेक्षक अनंत गोपाल यादव ने परीक्षार्थियों को चेक किया तो मनोज कुमार के स्थान पर परीक्षा दे रहे पवन सैनी का फोटो, हस्ताक्षर अटेंडेंस शीट और रोल नंबर पर नहीं मिले। पूछताछ करने पर परीक्षार्थी ने अपना नाम पवन सैनी निवासी हरियाणा बताया। पर्यवेक्षक ने इसकी सूचना केंद्राध्यक्ष श्रीमती शारदा को दी और उन्होंने पुलिस को बुला लिया। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ न्यायालय में चालान पेश किए। न्यायालय ने आरोपियों को 5-5 साल की सजा और 1-1 हजार रुपए अर्थदंड लगाया है।