अधिकतर ट्रैवल एजेंसियां कॉलोनियों में पार्क कर रहीं वाहन, आरटीओ के पास कार्रवाई का समय नहीं

अधिकतर ट्रैवल एजेंसियां कॉलोनियों में पार्क कर रहीं वाहन, आरटीओ के पास कार्रवाई का समय नहीं

भोपाल । लालघाटी क्षेत्र की प्रमुख कॉलोनी विजय नगर हो या फिर कोहेफिजा कॉलोनी का मुख्य चौराहा। यहां सड़क के दोनों तरफ ट्रैवल एजेंसी की दर्जनों बसें और कारें खड़ी नजर आती हैं। ये स्थिति यहीं की नहीं है, बल्कि राजधानी की करीब दर्जन भर कॉलोनियों का यही हाल है। इन ट्रैवल एजेंसियों के पास पार्किंग स्पेस नहीं है, लिहाजा इन्होंने कॉलोनियों में ही अवैध पार्किंग बना रखी है। वहीं आरटीओ अधिकारियों का इस तरफ ध्यान नहीं है। इन अवैध पार्किंग से रहवासी परेशान हैं, लेकिन डर के कारण शिकायत करने से बचते हैं। गौरतलब है कि 2 मई को ट्रैफिक पुलिस ने ऐसे 33 ट्रैवल एजेंसियों की लिस्ट आरटीओ को सौंपी थी, जिनके पास पार्किंग की व्यवस्था नहीं है। इसमें कहा गया था कि ये ट्रैवल एजेंसियां अपनी गाड़ियां सड़कों के किनारे और सरकारी जमीन पर खड़ी करती हैं, इससे उन इलाकों में आए दिन यातायात जाम की समस्या खड़ी होती है।

300 से अधिक ट्रैवल एजेंसिया अवैध

जानकारी के अनुसार, क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय द्वारा अवैध ट्रैवल एजेंसियों की विशेष जांच रिपोर्ट तैयार की जा रही है। इस रिपोर्ट के आधार पर अवैध ट्रैवल्स एजेंसियों के संचालकों के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई की जाएगी। ट्रैफिक पुलिस ने आरटीओ को इन ट्रैवल एजेंसियों के फोटो भी उपलब्ध कराए हैं। इसमें साफ दिख रहा है कि इन टैÑवल एजेंसियां के वाहन सरकारी जमीन और सड़कों के किनारे पार्क हो रहे हैं। आरटी ओ ने इन ट्रैवल एजेंसियों को नोटिस भी जारी किए हैं।

कार्रवाई से पूर्व ही हटा लेते हैं गाड़ियां

जिन कॉलोनियों में ट्रैवल एजेंसियों की गाड़ियां खड़ी की जा रही हैं, हमनें उनमें से कुछ कॉलोनियों के लोगों से इस बारे में बातचीत की। उन्होंने बताया कि कॉलोनी में अवैध पार्किंग की वजह से हमेशा हादसे का डर बना रहता है। लोगों का कहना है कि कई बार ट्रैफिक पुलिस या प्रशासन की ओर से अतिक्रमण विरोधी अमला आता है, लेकिन कार्रवाई की भनक इन ट्रैवल एजेंसियों को पहले से ही लग जाती है। लिहाजा ये लोग गाड़ियां उस समय वहां से हटा लेते हैं।