तेल हत्याकांड में मराठा का नहीं मिला रिमांड तो मैनेजर हत्याकांड में ले लिया

तेल हत्याकांड में मराठा का नहीं मिला रिमांड तो मैनेजर हत्याकांड में ले लिया

इंदौर। डिब्बा कारोबारी संदीप तेल हत्याकांड में मुख्य षड्यंत्रकारी रोहित सेठी 7 मार्च तक रिमांड है। वह हत्या की सुपारी देने से इनकार कर रहा है। रोहित का गैंगस्टर सुधाकरराव मराठा से आमनासा मना कराने के लिए विजयनगर पुलिस ने मराठा का रिमांड मांगा था, जो कि कोर्ट ने अस्वीकार कर दिया। इसके चलते शिप्रा पुलिस ने मराठा को शराब दुकान के मैनेजर रूपेश चौधरी हत्याकांड में पूछताछ के लिए रिमांड पर लिया है। अब अफसर रोहित और मराठा का आमनासा मना कराने की तैयारी में है। 11 जनवरी की रात शिप्रा शराब दुकान के मैनेजर रूपेश चौधरी की डकाच्या शराब दुकान के सामने बायपास पर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। जमीन, प्रेम-प्रसंग, लेनदेन व रंजिश सहित कई बिंदुओं पर दस महिलाओं, युवतियों सहित 150 लोगों से पूछताछ और 50 से ज्यादा लोगों के कथन के बाद भी पुलिस आरोपियों का पता नहीं लगा पाई थी। हालांकि, हमलावरों के प्रोफेशनल शूटर होने की संभावना पुलिस ने व्यक्त की थी। इस बीच 16 जनवरी को डिब्बा कारोबारी संदीप तेल की भी गोली मारकर हत्या हो गई। पुलिस ने गैंगस्टर सुधाकरराव मराठा को पकड़ा तो उसने रोहित सेठी के इशारे पर उसके मांगलिया स्थित फॉर्म हाउस पर 9 और 11 जनवरी को शार्प शूटरों अविनाश उर्फ टारजन और प्रदीप उर्फ बना के साथ बैठक करना और देवास से मांगलिया आना व जाना बताया था। इसके चलते रूपेश की हत्या में पुलिस का शक मराठा और उसके शूटरों पर गहरा गया। इसी के चलते उसे मंगलवार को मामले में पूछताछ के लिए कोर्ट से 8 मार्च तक के रिमांड पर लिया है, वहीं सूत्र बताते हैं कि पहले मराठा को तीन बार रिमांड पर ले चुकी विजयनगर पुलिस ने एक बार फिर कोर्ट से उसका रिमांड मांगा था, ताकि रोहित सेठी और मराठा को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की जाए। हालांकि कोर्ट ने विजयनगर पुलिस को रिमांड देने से इनकार कर दिया। इसके चलते शिप्रा पुलिस के जरिए मराठा को रिमांड पर लिया गया। अब पुलिस मराठा और रोहित का आमना-सामना कराएगी।

यह है पूरा मामला

16 जनवरी को विजयनगर थाने के पीछे डिब्बा कारोबारी संदीप अग्रवाल उर्फ संदीप तेल की हत्या हुई थी। पुलिस ने निम्बाहेड़ा (राजस्थान) जेल में योजनाबद्ध तरीके से किसी और मामले में बंद गैंगस्टर सुधाकरराव मराठा को रिमांड पर लेकर पूछताछ की थी। उसने रोहित सेठी से दस लाख रुपए लेकर भाड़े के शूटरों अविनाश उर्फ टारजन, प्रदीपकुमार गुर्जर उर्फ बना से हत्या करवाना बताया था। मराठा की निशानदेही पर पुलिस ने पहले हत्याकांड और उसकी योजना में शामिल सोनू उर्फ भास्कर, रोहित सूर्यवंशी, योगेश उर्फ योगी बाबा व एक अन्य को पकड़ा था। बाद में शूटर टारजन को भी पकड़ा गया। मामले में ईश्वर शर्मा उर्फ कल्लू भाया, देवीलाल, प्रदीपकुमार गुर्जर उर्फ बना व एक अन्य अब तक फरार है। सभी की गिरμतारी पर इनाम भी घोषित है। हालांकि, मामले में गठित एसआईटी की जांच फरार आरोपियों की गिरμतारी को लेकर एकदम ठंडी पड़ी है।