व्यवस्था के बजाय बद्तमीजी से विवाद पैदा कर रहे कई कोरोना फाइटर्स

व्यवस्था के बजाय बद्तमीजी से विवाद पैदा कर रहे कई कोरोना फाइटर्स

जबलपुर । कोरोना फाइटर्स के नाम पर चंद सदस्य बट्टा लगा रहे हैं। पुलिस प्रशासन ने सभी थाना क्षेत्रों के स्थानीय युवाओं को समाज सेवा के नाम पर 22 मार्च से ही कोरोना फाइटर का नाम देकर इन्हें पुलिस बल के साथ सहयोग करने केलिए अपने-अपने थाना क्षेत्रों के मुख्य चौराहों पर नि:शुल्क सेवाएं देने के लिए सूचीबद्ध कर तैनात किया है। अब इन्हीं में से कई जगह से कोरोना फाइटर्स के द्वारा आम नागरिकों से अभद्रता व बदतमीजी की शिकायतें सामने आ रही हैं। खमरिया थाना अंतर्गत घाना निवासी महिला रिद्धिका स्वामी के साथ कोरोना टीम के द्वारा की जाने वाली अभद्रता का वीडियो विगत दिनों काफी वायरल हुआ है। जिसमें महिला इतनी व्यथित है कि वह कलेक्टर से शिकायत करने की बात कह रही है। इस महिला ने जब कोरोना फाइटरों को सोशल डिस्टेंस का पालन करते नहीं देखा तो उसका कुसूर इतना ही था कि उसने नियमानुसार सोशल डिस्टेंस बनाने के लिए कहा था,जिसके बाद उसके साथ टीम ने बदतमीजी की। जिन युवाओं ने बदतमीजी की उनमें आशुतोष दुबे,पंकज राजपूत, हैप्पी रजक,मेघा पवार आदि शामिल हैं। ये एक बुजुर्ग के पीछे डंडा लेकर भी दौड़े जो कि महिला ने खुद देखा। रानीताल चौक पर तैनात कोरोना फाइटरों के द्वारा प्रतिदिन अभद्रता की जा रही है जिसका प्रमाण बाकायदा फोटो में भी नजर आता है। ये कोरोना फाइटर सामने वाले की समस्या सुने बिना उसके दोपहिया वाहन रोक कर उन पर हाथ रखकर बदतमीजी करने लगते हैं,जबकि नागरिक के पास बाकायदा पास होते हैं। यही स्थिति दमोहनाका, बल्देवबाग, अधारताल, गढ़ा, मदनमहल थाने के सामने, मदनमहल चौराहा, आमनपुर, ग्वारीघाट रोड में भी बन रही है।

कौन हैं कोरोना फाइटर्स

पुलिस ने क्षेत्र से उन युवाओं से नाम मांगे थे जो वर्तमान संकट के दौरान पुलिस बल के साथ सहयोग करते हुए सेवाएं दें। इनमें कई नाम खुद असामाजिक तत्वों के शामिल हो गए। वहीं राजनीतिक प्रभाव वाले लोगों ने भी अपने कार्यकर्ताओं के नाम इसमें रखवा लिए हैं।

पुलिस और व्यवस्था से भी हैं इन्हें कई शिकायतें

मदनमहल चौक पर ही 15 कोरोना फाइटर दोनों टाइम तैनात हैं। जिनमें कशिश श्रीवास्तव, राजकुमार राजपूत,आनंद सोंधिया,सोनू सेन, विजयंत कुमार,पवन विश्वकर्मा, सोनेलाल रघुवंशी, शुभम मल्लाह, भूपेन्द्र, जानसन, आशीष पटैल,अमित सोंधिया आदि हैं। इनसे बातचीत करने पर कहा कि हम किसी से बदतमीजी नहीं करते,कुछ नागरिक पास न होते हुए भी विवाद करते हैं जिन्हें पुलिस बल से समझाइश दिलवाते हैं। वहीं इन्होंने यह भी कहा कि न तो टी शर्ट मिली है और न ही सेनेटाइजर,एक दिन खाना भी बासा दे दिया था। नाश्ते का कोई इंतजाम नहीं होता। न तो टेंट है और न ही बैठने के लिए कुर्सियां।

बल्देवबाग चौक में तैनात कोरोना फाइटर

बल्देवबाग चौराहे में तैनात कोरोना फाइटरों में विशाल रजक, पंकज पटैल, शुभम पटैल,पंकज विश्वकर्मा, संदीप पटैल,लक्की पटैल, दीपक कुशवाहा, अनमोल सोनी,आशीष पाण्डे शामिल हैं।

सोशल डिस्टेंसिंग तक का पालन नहीं ये कोरोना फाइटर

खुद भी सोशल डिस्टेंस का पालन करते नजर नहीं आ रहे हैं। झुंड में एक साथ इन्हें खड़े देखा जा सकता है। ज्यादातर को निर्धारित यूनीफार्म भी नहीं दी गई हैं। डंडे जरूर इनके हाथों में थमाए गए हैं। जिनका उपयोग कम और दुरुपयोग अधिक नजर आता है।