सवालों के बीच जानी बिल्डिंग परमिशन की बारीकियां, नहीं मिले संतोषजनक जवाब

सवालों के बीच जानी बिल्डिंग परमिशन की बारीकियां, नहीं मिले संतोषजनक जवाब

ग्वालियर भले ही दो दिन पहले नगरीय प्रशासन प्रमुख सचिव संजय दुबे के इशारे पर ई-नगर पालिका बिल्डिंग परमिशन देने के कंसौल भवन अधिकारियों को मिल गए हो। लेकिन बिल्डिंग परमिशन एबीपीएस सिस्टम-2 कंपनी कारिंदों ने सिस्टम की बारीकियां बताई। जिसमें भवन अधिकारियों के सवालों के संतोष जनक जवाब नहीं मिल सके। बाल भवन में आयोजित बैठक के दौरान भवन अधिकारियों को समझौता प्रमाण पत्र (कम्प्रोमाईज सर्टिफिकेट) के संबंध में सिटी प्लानर प्रदीप वर्मा ने शासन की मंशा से सभी बीआई, भवन अधिकारी व सहाय सिटी प्लानर को अवगत कराया। उन्होंने एबीपीएस सिस्टम-2 चलाने वाले प्रायवेट कंपनी कुलदीप कुशवाह ने बताया कि भवन निर्माण स्वीकृति का जो साफ्टवेयर है उसके जरिए ही उक्त सर्टिफिकेट प्रदान किए जाएंगे। बैठक के दौरान निर्माण स्वीकृति के सॉफ्टेवयर एबीपीएस टू का संचालन करने वाली कंपनी के प्रतिनिधि भी उपस्थित थे। इनके द्वारा ही आॅन लाईन सर्टिफिकेट प्रदान करने की प्रक्रिया समझाई गई। सिटी प्लानर ने बताया कि भवन स्वामी को स्वंय ही आॅन लाईन प्रक्रिया का प्रमाण पत्र भरना होगा। इसमें निगम अधिकारियों का कोई हस्तक्षेप नहीं होगा। भवन स्वामी को पूरी करनी होगी प्रक्रिया:कम्प्रोमाईज प्रमाण पत्र के लिए कोई भी भवन स्वामी आवेदन कर सकता है। यह पूरी प्रक्रिया भवन स्वामी को ही पूरी करनी है। इसके लिए भवन स्वामी चाहे तो किसी आकेर्टेक्ट की मदद ले सकता है लेकिन फार्म भवन स्वामी को स्वंय ही भरना होगा। इस फार्म में सारी बातों का उल्लेख किया जाएगा। भवन स्वामी स्वंय यह प्रमाण पत्र देगा कि उसने नियमानुसार ही प्रमाण पत्र के लिए आवेदन किया है।