19 साल बाद एक ही दिन मनेंगे स्वतंत्रता दिवस व रक्षाबंधन

19 साल बाद एक ही दिन मनेंगे स्वतंत्रता दिवस व रक्षाबंधन

ग्वालियर  भाई-बहन के स्नेह का प्रतीक रक्षाबंधन इस बार राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाया जाएगा। 19 साल बाद इस बार दो महत्वपूर्ण पर्व रक्षाबंधन और स्वतंत्रता दिवस एक ही दिन पड़ रहे हैं। इस बार सबसे खास बात है कि रक्षाबंधन पर कोई भद्रा नहीं है। दोपहर में राहुकाल को छोड़कर शुभ मुहूर्त में भाइयों की कलाई पर बहनें राखी बांधकर लंबी उम्र की कामना करेंगी। ज्योतिषी एचसी जैन के अनुसार रक्षाबधंन 15 अगस्त गुरुवार को मनाया जाएगा, ऐसा 19 साल बाद हो रहा है। इससे पहले वर्ष 2000 में मंगलवार को इस तरह का योग बना था। इसके बाद वर्ष 2084 में मंगलवार को दोनों पर्व एक साथ मनाए जाएंगे। पूर्णिमा तिथि 14 अगस्त, बुधवार को दिन में 2.47 बजे से शुरू होगी, जो 15 अगस्त की शाम 4.23 बजे तक रहेगी। राहुकाल दिन में 1.30 बजे से दोपहर 3 बजे है, इसलिए राहुकाल के समय को छोड़कर शुभ मुहूर्त में रखी बांधना मंगलकारी रहेगा।

देशभक्ति से प्रेरित राखियों की खूब मांग रक्षाबंधन और स्वतंत्रता दिवस दोनों पर्व एक साथ पड़ने से तिरंगे के रंगों से सजी राखियों से बाजार गुलजार हो गया है। ग्वालियर जिले में भी सबसे ज्यादा मांग राष्ट्रीय प्रतीक की राखियों की है। जिन राखियों की डिजाइन स्पेशल तिरंगे में है, उसे लोग खूब पसंद कर रहे हैं, वहीं बाजार में इस बार मोदी राखी भी आई है, जो बहनों की खास पसंद है। इसके अलावा बाजार में कार्टून चैनल के पात्रों की भी जो छोटे बच्चों की पसंद बनी हुई हैं इसके अलावा कई ब्रांड की राखियां बाजार में बिक्री के लिए उपलब्ध हैं। देशभक्ति की राखियों के अलावा लुम्बा राखी सबसे ज्यादा पसंद की जा रही हैं।

10 से 300 रुपये तक की राखी

बाजार में तीन रुपए से लेकर 300 रुपए तक की राखी बिक रही है। बाजार में डिजाइनदार राखियां 10 रुपए 300 रुपए तक बिक रही हैं। रेशमी, डायमंड फैशनेबल और चांदी राखियां खूब पसंद की जा रही है। राखियों के दाम में पिछले साल की अपेक्षा 15 से 20 प्रतिशत बढ़ गया है।