बढ़ाए गए किराए से होगी आॅफ सीजन के नुकसान की भरपाई

बढ़ाए गए किराए से होगी आॅफ सीजन के नुकसान की भरपाई

इंदौर। महू से चलने वाली हेरिटेज ट्रेन सोमवार से फिर शुरू हो रही है। यह ट्रेन गर्मी के कारण यात्री नहीं मिलने से बंद कर दी गई थी, लेकिन अब रेलवे ने इसे शुरू करने के साथ ही रोज चलाने का निर्णय लिया है। ट्रेन के किराए में भी बढ़ोतरी की गई है। माना जाता है कि पिछले दिनों आॅफ सीजन में हुए नुकसान की भरपाई ट्रेन का किराया बढ़ाकर की जा जाएगी। इस रेलखंड पर पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए हेरिटेज ट्रेन के कोच की दर्जनभर सीटें आईआरसीटीसी को दी गई है, जिसकी बुकिंग वह खुद करेगा। रतलाम रेल मंडल के डीआरएम आरएन सुनकर ने बताया कि 17 जून से मंडल के महू-कालाकुंड रेलखंड के बीच चलने वाली हेरिटेज ट्रेन के सामान्य कोचों का किराया बढ़ाकर 20 रुपए कर दिया है। स्पेशल कोच के किराए में कोई वृद्धि नहीं की गई। किराया बढ़ाने से आमदनी तो बढ़ेगी ही, आॅफ सीजन में होने वाले नुकसान की भी भरपाई हो सकेगी। हालांकि किराया बढ़ाने के साथ ही रेलवे ने ट्रेन में कुछ अतिरिक्त सुविधाएं भी यात्रियों के लिए जुटाई हैं, जिससे पर्यटकों को चलती ट्रेन में पानी व अन्य खाद्य सामग्री भी उपलब्ध होगी। इसके लिए मंडल ने कुछ वेंडरों को परमिट भी जारी किए हैं।

स्पेशल कोच का किराया 500

रुपए हेरिटेज ट्रेन के स्पेशल कोच की 12 सीटें आईआरसीटीसी को दी हैं। इनका किराया 500 रुपए है। यदि टिकट खिड़की से बुक होती है तो इनका किराया 240 रुपए है, वहीं अन्य सीटों का किराया 200 रुपए है। आईआरसीटीसी से टिकट बुक कराने वालों के लिए नाश्ता व खाना भी उपलब्ध कराया जाएगा।

स्पेशल ट्रेन में अब वेंडर भी होंगे

पहले सामान्य कोच में पानी व खाने जैसी कोई सुविधा यात्रियों के लिए नहीं थी, लेकिन अब रेलवे ने सामान्य कोच में भी वेंडरों को खाद्य सामग्री बेचने के लिए परमिट जारी कर यह सुविधा भी यात्रियों के लिए जुटाई है। इससे अब ट्रेन में ही लोगों को पानी, चाय और नाश्ता मिल जाएगा।

ट्रेन की शुरुआत 25 दिसंबर 2018 को हुई थी

उल्लेखनीय है कि हेरिटेज ट्रेन की शुरुआत 25 दिसंबर-2018 से हुई थी। पातालपानी से कालाकुंड तक चलने वाली यह ट्रेन अप्रैल से शनिवार और रविवार को ही चलाई जा रही है। यह फैसला गर्मी बढ़ने और यात्रियों की कमी को देखते हुए लिया गया था। पर्यटक यहां बारिश के बाद होने वाली प्राकृतिक सुंदरता और पहाड़ियों पर छाई आकर्षक हरियाली देखने आते हैं। साथ ही ट्रेन जिस तरह पहाड़ियों के बीच से गुजरती है, यह नजारा देखना भी रोमांचक होता है, लेकिन गर्मी में यहां हरियाली खत्म हो जाती है, जिससे पर्यटकों का आना बंद हो जाता है।