नेता-अफसरों ने महिलाओं को कैसे फायदा दिलाया, इस एंगल से जांच

नेता-अफसरों ने महिलाओं को कैसे फायदा दिलाया, इस एंगल से जांच

इंदौर । हनीट्रैप मामले की जांच के लिए बनी एसआईटी के चीफ संजीव शमी बुधवार को इंदौर पहुंचे। शहर में वे करीब 4 घंटे रहे। उन्होंने करीब आधा घंटे तक एसएसपी रुचिवर्धन मिश्रा से मामले की जानकारी ली। इसके बाद पलासिया थाने में बंद आरोपी ओमप्रकाश कोरी से पूछताछ की। शमी ने अधिकारियों से कहा कि इस मामले में कुछ भी बोलने से पहले गंभीरता से विचार करें। हाईप्रोफाइल लोगों से जुड़े मामले की तह तक जाना जरूरी है। ऐसा न हो की भावुकता या किसी की बातों में आकर जांच संबंधी जानकारी सार्वजनिक कर दी जाए। शमी ने पत्रकारों से कहा- जो भी दोषी होगा, उस पर कार्रवाई की जाएगी। एसआईटी गिरोह से नजदीकी संबंध रखने वाले अधिकारियों, नेताओं द्वारा महिलाओं को फायदा पहुंचाने की दिशा में जांच बढ़ा रही है।

वीडियो में दिखने वाले नेता-अफसरोंऔर महिलाआें के संबंधों की भी होगी जांच

एसआईटी चीफ संजीव शमी ने बताया कि मामले में अब तक सामने आई सीडी, वीडियो और तस्वीरों में दिखने वाले अधिकारियों और नेताओं के महिलाओं से संबंधों की जांच पड़ताल शुरू कर दी गई है। इन महिलाओं ने एनजीओ के माध्यम से काम लेने, तबादले- पदस्थापनाएं कराने, विभिन्न प्राइवेट कंपनियों के प्रतिनिधि के तौर पर सरकारी विभागों में काम दिलाने के लिए अधिकारियों और नेताओं से संबंधों का फायदा लिया है। एसआईटी यह भी पता लगा रही है कि किन अफसरों और नेताओं ने महिलाओं को कैसे फायदा पहुंचाया है। अफसर-नेताओं में खलबली, पता करने में लगे रहे - सीडी और वीडियो क्लिपिंग आने के बाद से इन महिलाओं के गिरोह से जुड़े नेता-अफसरों में खलबली है। बुधवार को वे अपने परिचितों िमत्रों से पता करने की कोशिश में लगे रहे कि आखिर कार्रवाई किस दिशा में है।

लातूर के कांग्रेस नेता ढूंढने आए मंत्री का ‘कनेक्शन’

इंदौर। हनीट्रैप मामले के तार महाराष्ट्र के एक मंत्री से जुड़े होने के बाद सियासत लातूर से इंदौर तक गरमा गई। लातूर के एक कांग्रेस नेता अभय सालुंके महाराष्ट्र के एक मंत्री का नाम इस केस में शामिल होने की संभावना के चलते बुधवार सुबह 11 बजे इंदौर पहुंचे और शहर कांग्रेस अध्यक्ष विनय बाकलीवाल से मुलाकात की। उल्लेखनीय है कि कुछ दिनों पूर्व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने मामले में महाराष्ट्र के मंत्री के शामिल होने की बात कही थी। सालुंके पलासिया थाने भी गए लेकिन पुलिस अधिकारियों ने उनसे मिलने से मना कर दिया। सालुंके ने आरोप लगाया कि जिस मंत्री के पास युवाओं के भविष्य संवारने का जिम्मा है, उनसे लोगों को बहुत ज्यादा उम्मीदें थीं, उनके खिलाफ नेशनल बैंको को फंसाने के मामले में सीबीआई ने पहले से ही चार्जशीट दाखिल कर रखी है।

10%पर लाइजनिंग करती थी रूपा रूपा

अहिरवार के बारे में दोनों ने बताया कि वह लाइजिनिंग का काम करती थी। रूपा का आधार कार्ड इनफिनिटी होटल में मिला था, जहां वह इनके साथ ठहरी थी। वह हाई प्रोफाइल लोगों से पैसा वसूलने के बाद श्वेता विजय जैन को दे देती थी। रूपा को इस काम के लिए कमीशन के तौर पर 10 फीसदी हिस्सा मिलता था। इस पैसे से रूपा ने व्यापार शुरू करने के साथ ही प्रापर्टी भी बनाई है।