आमरण अनशन के लिए पहुंचे पार्षदों को मनाया निगमायुक्त ने

आमरण अनशन के लिए पहुंचे पार्षदों को मनाया निगमायुक्त ने

ग्वालियर । प्रदेश के मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर के इशारे पर क्षेत्र में विकास कार्य रूकवाने के चलते भाजपा-कांग्रेस के पार्षद निगम मुख्यालय में जनसुनवाई के दौरान विरोध करने पहुंच गए। जहां निगमायुक्त संदीप माकिन ने नाराज पार्षदों को दो दिन में विकास कार्र्यों की फाइलें स्वीकृत करने व रूके कार्यों को गति देने का आश्वासन देकर आमरण अनशन करने से रोक लिया। जनसुनवाई में पेयजल समस्या को लेकर महिलाओं ने जमकर हंगामा किया। मंगलवार को सिटी सेंटर निगम मुख्यालय में जनसुनवाई के दौरान आमरण अनशन के लिए वार्ड क्रमांक 10 के भाजपा पार्षद जयसिंह सौलंकी परिषद में अपने साथी दिनेश दीक्षित, पुरूषोत्तम टमोटिया, सीमा धर्मवीर सिंह राठौर, रानी जितेन्द्र यादव, ऊषा रामविलास गोस्वामी, डॉ. दयाराम पाल, भूपेन्द्र मंगोनिया व कांग्रेस पार्षद जगदीश पटेल सहित अन्य को लेकर पहुंचे। जहां निगमायुक्त ने सत्ता परिवर्तन के बाद क्षेत्रीय विकास की शिकायत लेकर पहुंचे जनप्रतिनिधियों से तसल्ली से जानकारी ली और क्षेत्र में कहां-कहां विकास कार्य होने हैं, की फाइलें तत्काल स्वीकृत करने व रूके हुए कार्यों की जिम्मेदार अधिकारियों को बुलाकर तत्काल पूर्ण करने के निर्देश दिए। हालांकि इस दौरान आम लोग अपनी सुनवाई के लिए इंतजार करते हुए देखे गए। जिम्मेदार अधिकारियों ने सुनवाई का समय खत्म होने के बाद लोगों की परेशानी को सुन क्षेत्रीय अधिकारियों को निर्देश दिए। वहीं जनसुनवाई में पूर्व पार्षद भगवानदास सैनी ने भी आउटसोर्स कर्मचारियों को बीते 5-6 माह से वेतन न मिलने की शिकायत की। जिसके बाद निगमायुक्त ने बताया कि सिक्यूरिटी एजेंसी का कार्यकाल बढ़ाने वाले प्रस्ताव पर कार्यवाही शुरु होना बताया।

पानी को लेकर महिलाओं ने किया हंगामा

नौ-महला, घासमंडी व मिर्जापुर क्षेत्र से पेयजल संकट को लेकर आई महिलाओं ने निगम मुख्यालय में जमकर नारेबाजी की। इसके बाद निगमायुक्त ने उनके क्षेत्र में सबसे पहले अमृत योजना से कार्य करवाने का आश्वासन दिया। इसी क्रम में वार्ड क्रमांक-4 व तानसेन नगर वासियों के साथ भिंड की पूर्व जिला पंचायत उपाध्यक्ष संजू जाटव ने भी आम आदमी को पानी न मिलने की निगम अधिकारियों से शिकायत की।