गृह मंत्रालय ने त्रिपुरा, असम, बंगाल को किया सतर्क

गृह मंत्रालय ने त्रिपुरा, असम, बंगाल को किया सतर्क

अगरतला केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने त्रिपुरा, असम और पश्चिम बंगाल को चेतावनी जारी की है कि इस्लामिक आतंकवादी संगठन इन राज्यों के सीमावर्ती इलाकों में अपनी हरकतें तेज करने का प्रयास कर रहे हैं। मंत्रालय की ओर से इन राज्यों को दी गयी सूचना में कहा गया है कि इस्लामिक आतंकवादी संगठन जैसे जमात-उल-मुजाहिदीन बंगलादेश (जेएमबी) जिसने हाल ही में जमात-उल-मुजाहिद्दीन इंडिया (जेएमआई) का गठन किया है, त्रिपुरा, असम और पश्चिम बंगाल में अपना आधार स्थापित करने का प्रयास कर रहा है। मंत्रालय ने बताया है कि जांच के दौरान पता चला है कि जेएमबी इन राज्यों के जिलों में भारत-बंगलादेश सीमा के साथ-साथ 10 किलोमीटर के दायरे में स्थायी ठिकाने बनाने की योजना बना रहा है। यह आतंकवादी संगठन दक्षिण भारत में अपने नेटवर्क को फैलाने की योजना के साथ भारतीय उप-महाद्वीप में स्थायी ठिकाने बनाने का प्रयास कर रहा है। इसके अलावा जेएमबी आतंकवादी गतिविधियों, विस्फोटकों एवं रसायनों की खरीद और विस्फोटक उपकरणों के लिए धन जुटाने में भी शामिल रहा है। गृह मंत्रालय के अनुसार जेएमबी और जेएमआई या जमात-उल-मुजाहिदीन हिन्दुस्तान ने आतंकवादी हरकतों को बढ़ावा दिया है और भारत में आतंकवादी गतिविधियों के लिए युवाओं को कट्टरपंथ की ओर खींचने और उनकी भर्ती के कार्यों में लगा हुआ है। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने यहां बताया कि दो अक्टूबर, 2014 को बर्दवान बम विस्फोट और 19 जनवरी, 2018 को बोधगया विस्फोट में जेएमबी कैडरों की संलिप्तता की जाँच एजेंसी द्वारा की गयी है। इसके अलावा असम पुलिस ने करीब पांच मामलों में जेएमबी की संलिप्तता पाई है और जेएमबी से जुड़े कुल 56 अभियुक्तों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।