पुणे जाते वक्त हार्ट अटैक; पद्मश्री धु्रपद गायक रमाकांत गुंदेचा नहीं रहे

पुणे जाते वक्त हार्ट अटैक; पद्मश्री धु्रपद गायक रमाकांत गुंदेचा नहीं रहे

भोपाल। विश्व विख्यात धु्रपद गायक व पद्मश्री से सम्मानित ‘गुंदेचा बंधु’ में से एक रमाकांत गुंदेचा का शुक्रवार शाम 5:45 बजे हार्ट अटैक से निधन हो गया। वे अपने बड़े भाई उमाकांत गुंदेचा व छोटे भाई अखिलेश गुंदेचा के साथ 10 नवंबर को एक कार्यक्रम में प्रस्तुति देने के लिए पुणे जा रहे थे। हबीबगंज रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर-5 पर शाम करीब 5 बजे वे 01664 हबीबगंज-धारवाड़ एक्सप्रेस में पुणे जाने के लिए बैठे थे। ट्रेन में बैठते ही उन्हें सीने में दर्द उठा। परिजनों ने टीटीई और आरपीएफ की मदद से 108 एंबुलेंस बुलाई और भोपाल के एक निजी हॉस्पिटल ले गए, जहां शाम करीब 5.45 बजे उनका निधन हो गया। उनके निधन की खबर सुनकर कला जगत में शोक की लहर है। उनका अंतिम संस्कार शनिवार सुबह 11 बजे भदभदा विश्राम घाट पर होगा।

मिंटो हॉल में आखिरी परफॉर्मेंस , आज 11 बजे अंतिम संस्कार

गुरुवार की रात मिंटो हॉल में विश्वरंग में गुंदेचा बंधुओं ने ध्रुपद गायन की प्रस्तुति दी। राग भोपाली में गणेश वंदना ‘शंकर सूत गणेशा’ के साथ शाम का शुभारंभ किया। कार्यक्रम के दौरान उन्होंने निराला द्वारा रचित टूटे सकल बंध, राग शंकरा की प्रस्तुति दी। कार्यक्रम के अंत में उन्होंने शिव आराधना की प्रस्तुति देकर समापन किया। उन्होंने शुक्रवार सुबह भी सेशन अडेंट किया। यह उनका आखिरी परफॉर्मेंस था।