भीषण गर्मी और ‘वायु ’ से बिगड़ा हवा का रुख और मानसून सिस्टम गड़बड़ाया

भीषण गर्मी और ‘वायु ’ से बिगड़ा हवा का रुख और मानसून सिस्टम गड़बड़ाया

जबलपुर  ।  इस वर्ष जहां भीषण गर्मी ने पूरे देश में रिकार्ड तोड़ा है जिससे मानसून सिस्टम भी लड़खड़ा गया है। मौसम विद् का मानना है कि समूचे मध्य एवं उत्तर भारत में भीषण गर्मी और तापमान में रिकार्ड बढ़ौतरी हुई। ये इलाके राजस्थान की तहर तपते रहे जिससे कम दबाव का क्षेत्र राजस्थान ही नहंी मध्य प्रदेश, बंगाल सहित अनेक इलाकों में बनी जिसे मानसूनी हवाओं की दिशाएं अनुकूल नहीं हो पा रही है और मानसून आगे बढ़ने में विलम्ब हो रहा है। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि अगले 24 घंटे के दौरान संभाग में कहीं कहीं गर्ज चमक के साथ बारिश के छीटे पड़ कसते है। अमूमन तापमान बढ़ा रहेगा तथा उमस रहेगी। नगर का अधिकतम तापमान 37 डिग्री सेल्सियस रहा। यह तापमान सामान्य से 2 डिग्री सेल्सियस अधिक रहा। वहीं न्यूनतम तापमान 28.4 डिग्री सेल्सियस रहा। यह तापमान सामान्य से 3 डिग्री अधिक रही। आर्द्रता सुबह 59 एवं शाम को 39 प्रतिशत रही। हवाएं उत्तर पश्चिम दिशा से 8-9 किलोमीटर की रμतार से चली।

इसलिए हुआ सिस्टम डिस्टर्व

मौसम वैज्ञानिक डीके नायक ने बताया कि इस वर्ष मानसून पूर्व वायु चक्रवात ने अरब सागर में दस्तक दी जिसके चलते वायु ने समूचे मानसूनी सिस्टम को डिस्टर्व कर दिया है। मानूसनी सीजन में चलने वाला हवा का पैटर्न गड़बड़ा गया है जिसकी वजह से मानूसन अपनी गति से आगे नहीं बढ़ पाया है। भारतीय उप महाद्वीप तापमान में कमी होने के साथ हवा का पैटर्न में सुधार आने पर मानसून गति पकड़ेगा।

अरब सागर में सिस्टम कमजोर

वही अरब सागर में फिलहाल मानसूनी सिस्टम कमजोर पड़ा है जिससे दक्षिण पश्चिम मानसून की ब्रेक हो गया है जबकि बंगाल की खाड़ी की खाड़ी में मानसूनी सिस्टम धीरे धीरे मजबूत हो रहा है जिससे प्रदेश में मानसून सक्रिय होगा।

पूर्वी मध्य प्रदेश में जल्द आएगा

मौसम विभाग के पूर्वानुमान है कि बंगाल की खाड़ी से होकर मानसून पूर्वी मध्य प्रदेश से होते हुए जबलपुर में 28 जून तक दस्तक देगा। वहीं 24 जून से 27 जून तक प्रीमानसूनी बारिश होगी।