वेब चेक-इन के बाद एयरपोर्ट पर एंट्री मिलेगी, फ्लाइट में खाना नहीं मिलेगा

वेब चेक-इन के बाद एयरपोर्ट पर एंट्री मिलेगी, फ्लाइट  में खाना नहीं मिलेगा

 नई दिल्ली । नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप पुरी ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर 25 मई से शुरू होने वाली घरेलू उड़ानों और किरायों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि उड़ान शुरू होने के दिन से अगले तीन महीने तक के लिए किराए फिक्स कर दिए गए हैं। दिल्ली-मुंबई का 90-120 मिनट की उड़ान का मिनिमम किराया 3 हजार 500 रुपए और मैक्सिमम 10 हजार रुपए होगा। पुरी ने बताया कि शुरुआत में एक तिहाई उड़ानें ही चलेंगी, सही लगा तो 10-15 फीसदी और बढ़ा देंगे। वहीं एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने पैसेंजर और एयरपोर्ट  ऑपरेटर्स के लिए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर भी जारी कर दिया है। इसमें 14 साल तक के बच्चों को छोड़ बाकी सभी को आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करना जरूरी होगा।

40% सीटें सस्ते में मिलेंगी 

सिविल एविएशन सेकेट्री प्रदीप सिंह खरौला ने बताया कि 40% सीटें प्राइस बैंड के मिडपॉइंट के कम प्राइस पर बेची जाएंगी। उन्होंने उदाहरण दिया कि 3,500 से 10 हजार के प्राइस बैंड का मिडपॉइंट 6,700 रुपए होता है। यानी इस प्राइस बैंड में 40% सीटें 6,700 रुपए से कम प्राइस पर बुक करनी होंगी।

 घर से एयरपोर्ट तक

फ्लाइट से कम से कम 2 घंटे पहले पहुंचें। जो पहले से वेब चेक-इन करके आएंगे, उन्हें ही एंट्री मिलेगी। बैगेज टैग/आइडेंटिफिकेशन नंबर भी डाउनलोड प्रिंट कर बैग पर चिपकाना होगा।

एंट्री से पहल

मास्क-ग्लव्ज के बिना एंट्री नहीं। आरोग्य सेतु एप में रेड स्टेटस हुआ तो एंट्री नहीं मिलेगी। एप सपोर्टिंग फोन नहीं है तो कोरोना के लक्षण नहीं होने का सेल्फ डिक्लेरेशन दे सकेंगे। सिर्फ एक चेक-इन बैग और एक केबिन बैग की इजाजत होगी।

 टर्मिनल बिल्डिंग

टर्मिनल बिल्डिंग में एंट्री से पहले थर्मल स्क्रीनिंग होगी। जूते-चप्पलों को डिसइन्फेक्ट करने के लिए एंट्रेस पर ब्लीच में भीगे मैट या कारपेट रखे जाएंगे।  जरूरत नहीं होने पर डिपार्चर और अराइवल एरिया में ट्रॉली नहीं मिलेगी।  जरूरतमंदों को पहले से सैनेटाइज व्हील चेयर मिलेगी।

 बैगेज, बोर्डिंग पास 

बैगेज सैनेटाइज किया जाएगा।  एंट्री पर 60 मिनट में बैगेज ड्रॉप और चेक इन फॉर्मेलिटी पूरी होगी। बैगेज ड्रॉप पर ई-रिसीप्ट मिलेगी। बोर्डिंग पास तभी जारी होगा, जब यात्री यह डिक्लेरेशन देंगे- मैं कंटेनमेंट जोन में नहीं रहता। मुझे बुखार/खांसी/सांस की दिक्कत नहीं है। मुझे क्वारेंटाइन में नहीं रखा गया था। अगर मुझे ये सिम्पटम दिखेंगे तो मैं हेल्थ अथॉरिटी को बताऊंगा। मैं कोरोना पॉजिटिव नहीं पाया गया। मैं नियमों के मुताबिक ट्रैवल करने के लिए एलिजिबल हूं। एयरलाइंस के मांगने पर मैं अपना फोन नंबर/ कॉन्टैक्ट डिटेल्स देने के लिए तैयार हूं। मैं जानता हूं कि अगर मैं ऊपर बताए पैमानों को पूरा किए बिना यात्रा कर रहा हूं तो मुझ पर कार्रवाई होगी। (एक PNR पर एक से ज्यादा यात्री हैं तो माना जाएगा कि डिक्लेरेशन सभी की तरफ से है

सक्योरिटी होल्ड एरिया

सोशल डिस्टेंसिंग : कुर्सियों पर लिखा मिलेगा- नॉट फॉर यूज। फूड आउटलेट पर पार्सल मिलेंगे। बोर्डिंग सिटिंग एरिया में जिस आर्डर बैठेंगे उसी आर्डर  में बोर्डिंग गेट जाएंगे। एयरक्राफ्ट में बैच में एंट्री। फ्लाईट में खाना नहीं मिलेगा। अपना खाना भी नहीं ले जा सकेंगे। पानी की बोतल सीट पर ही मिलेगी।

अराइवल

प्लेन से इकट्ठे बाहर नहीं आ सकेंगे। जो यात्री ट्रांजिट में हैं, उन्हें ट्रांजिट एरिया से बाहर जाने की इजाजत नहीं होगी। कोरोना के लक्षण मिले तो यात्री को टर्मिनल बिल्डिंग के आइसोलेशन एरिया में ले जाएंगे। फ्लाइट बुकिंग के लिए जो नए नियम बनाए गए हैं। वह अभी लोगों को समझ नहीं आ रहे हैं। मगर एयरलाइंस ने बुकिंग ओपन कर दी है और लोगों ने टिकट भी बुक करना शुरू कर दिए हैं। सुनील नोतानी, राष्ट्रीय कार्यकारणी सदस्य ट्रेवल एजेंट एसोसिएशन ऑफ  इंडिया