नगर निगम कर रहा संवेदनशील स्थलों की सुरक्षा से खिलवाड़

नगर निगम कर रहा संवेदनशील स्थलों की सुरक्षा से खिलवाड़

जबलपुर । नगर निगम में हर महीने 19 लाख रुपए की राशि सुरक्षा गार्डों के वेतन पर खर्च की जा रही है। हालाकि सुरक्षा दूर-दूर तक नजर नहीं आती और संवेदनशील स्थल भगवान भरोसे हैं। वाटर फिल्टर प्लांट,स्कूल,पंप हाउस,जलाशय,जोन कार्यालय, ननि मुख्यालय,पार्क सहित ऐसे लगभग 61 महत्वपूर्ण और संवेदनशील स्थानों की सुरक्षा का जिम्मा लिया गया था। इसके लिए प्राईवेट सुरक्षा गार्ड रखे जाने का निर्णय लिया गया था। टेंडर निकालकर एजेंसी के जरिए 150 गार्ड व 22 गनमैन रखे गए। जिन स्थानों पर इन गार्डों को तैनात करने का निर्णय लिया गया था,उनमें से अधिकांश स्थानों पर गार्ड हैं ही नहीं। अब इन जगहों पर कागजों में दर्शाए जा रहे गार्डों का पैसा किसकी जेब में जा रहा है यह जांच का विषय है। सर्वाधिक संवेदनशील स्थल होते हैं जल शोधन संयंत्र जहां शहर के लाखों लोगों की पहली जरूरत पेयजल का संधारण किया जाता है। भोंगाद्वार स्थित जल शोधसंयंत्र में 1 ही गॉर्ड है जबकि कागजों में यहां पर 3 गनमैन और 13 डंडे वाले गार्ड तैनात बताए जा रहे हैं। यहां के कर्मचारियों का कहना है कि पहले यहां पर गनमैन तैनात रहते थे मगर कई महीनों से वे आते ही नहीं हैं। कर्मचारियों ने बताया कि क्षेत्र के कई शराबी यहां आकर रात में महफिल सजाते हैं,कुछ कहो तो विवाद करने लगते हैं।

22 गनमैन, 150 गार्ड रखे

नगर निगम ने 22 गनमैन और 150 सिक्योरिटी गार्ड ठेके पर रखे हैं। जिम्मेदार अधिकारियों के मुताबिक इ पर नगर निगम हर माह 19 लाख रुपए खर्च कर रहा है। इस तरह साल पर 2 करोड़ 20 लाख रुपए खर्च किए जा रहे हैं। सिक्यूरिटी पर खर्च की जा रही इतनी बड़ी रकम के बावजूद अधिकारियों को यह पता ही नहीं है कि किस जगह पर कितने सुरक्षा गार्ड तैनात हैं।

खंदारी जलाशय में भी यही हाल

नगर निगम ने खंदारी जलाशय की सुरक्षा के लिए 6 गार्ड तैनात करने का प्रावधान किया है। जिसमें 3 गनमैन और 3 गार्ड हैं। यहां पर 1 गार्ड और 1 गनमैन ही नजर आता है। जिम्मेदारों द्वारा खंदारी जलाशय की सुरक्षा से भी खिलवाड़ किया जा रहा है।