स्वरोजगार शुरू करते समय घबराएं नहीं: बाजपेई

स्वरोजगार शुरू करते समय घबराएं नहीं: बाजपेई

भोपाल ।   नेहरू युवा केंद्र संगठन मध्य प्रदेश द्वारा वाल्मी में चल रहे ओरिएंटेशन प्रोग्राम के तीसरे दिन स्वरोजगार एवं जैविक खेती पर सत्र आयोजित किए गए। इसमें पूर्व अतिरिक्त संचालक उद्योग निगम डॉ.आरके बाजपाई, विशेषज्ञ योगिता सिंह एवं डॉ. सुरेंद्र शुक्ला उपस्थित रहे। डॉ.आरके वाजपेई ने कहा कि कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता, आज समाज में श्रम आधारित कार्य के प्रति लोगों का रुझान कम होता जा रहा है। स्वरोजगार के माध्यम से हम खुद का व्यवसाय शुरू तो कर ही सकते हैं साथ ही नए लोगों को ही रोजगार उपलब्ध करा सकते हैं। आज जो बड़ी- बड़ी कंपनी हमारे सामने मौजूद है उनकी शुरूआत भी कहीं ना कहीं एक छोटी सी जगह और सीमित लोगों के बीच हुई थी। स्वरोजगार शुरू करते समय युवाओं को जोखिम लेने से नहीं घबराना चाहिए। इसे चुनौती के रूप में स्वीकार करे। सरकार ने स्टार्टअप, मेक इन इंडिया, मेड इन इंडिया सहित कई तरह के नवाचार युवाओं के लिए किए है। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी का भी मानना था कि हम श्रम आधारित व्यवस्था के आधार पर ही ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत कर सकते हैं। जैविक खेती विषय पर विशेषज्ञ योगिता सिंह ने कहा कि रासायनिक खाद के कारण आज खेत की मिट्टी उत्पादकता खोती जा रही है। ऐसे में कई देशों ने फिर से खेती के पारंपरिक तौर—तरीकों का उपयोग करना शुरू कर दिया है। ऐसे में हमें भी खेती की प्राचीन पद्धतियों को अपनाने की जरूरत है। हम अपने घरों से निकलने वाले कचरे की माध्यम जैविक खाद बनाकर उसे किचन गार्डन में उपयोग कर सकते हैं। अंत में युवाओं ने सवाल- जवाब किए। संचालन संजय नगर एवं आभार मधु प्रसाद ने व्यक्त किया।