दिल्ली विश्व का 9वां सबसे तेजी से उभरता आवासीय बाजार बना

दिल्ली विश्व का 9वां सबसे तेजी से उभरता आवासीय बाजार बना

नई दिल्ली। संपत्ति को लेकर परामर्श देने वाली अंतर्राष्ट्रीय प्रॉपटी कंसल्टेंट नाइट फ्रैंक के अनुसार, इस साल की तिसरी तिमाही में दिल्ली एक स्थान छलांग लगाकर विश्व का 9वां सबसे तेजी से उभरता प्राइम आवासीय बाजार बन गया है। कंपनी की मंगलवार को जारी रिपोर्ट 'प्राइम ग्लोबल सिटीज इंडेक्स' में, नई दिल्ली को दुनिया के 9वें सबसे तेजी से बढ़ते प्राइम रेंजिडेंशियल मार्केट के रूप में स्थान दिया है। वहीं इस मामले में बेंगलुरु पांच स्थान फिसलकर 20वें स्थान पर आ गया है। मुंबई दो स्थान बढ़कर 28 वें स्थान पर पहुंच गया है। नाइट फ्रैंक इंडिया के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक शिशिर बैजन ने कहा कि दिल्ली और मुंबई की रैंकिंग में सुधार हुआ है, लेकिन इन दोनों ही शहरों में लग्जरी आवास की कीमतें पिछले तीन माह से एक जगह टिकी हुई है। 

मॉस्को टॉप पर

रिपोर्ट के अनुसार, मॉस्को में इस दौरान प्राइम श्रेणी के आवास की कीमतों में 11.1 प्रतिशत का इजाफा हुआ है और यह शीर्ष स्थान पर है। इसके बाद फ्रैंकफर्ट में 10.3 प्रतिशत और ताईपेई में 8.9 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है। हालांकि इस दौरान सियोल में लग्जरी आवासीय इकाइयों की कीमतें 12.9 प्रतिशत घटी है। 

मुंबई में 0.8 प्रतिशत की वृद्धि

कंपनी ने कहा कि नई दिल्ली के ग्रेटर कैलाश, वसंत विहार, आंनद निकेतन, डिफेंस कॉलोनी और ग्रीन पार्क जैसे इलाकों में तीसरी तिमाही के दौरान लग्जरी घरों के दाम में सालाना आधार पर 4.4 प्रतिशत की वृद्धि हुई। नई दिल्ली ने प्राइम रेजिडेंशियल प्रॉपर्टीज के भारित औसत पूंजी मान में 4.4 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 2019 की तीसरी तिमाही में 33,511 रुपए प्रति वर्ग फुट की वृद्धि दर्ज की, जबकि बेंगलुरु जिसमें रिचमंड टाउन, फ्रेजर टाउन, संजय नगर, लैंगफोर्ड टाउन, लैवले रोड, विट्टल माल्या रोड, पैलेस रोड, कस्तूरबा रोड, शेषाद्रिपुरम, रिचमंड रोड, एमजी. रोड, उलसोर, कनिंघम रोड, इन्फेंट्री रोड, बेन्सन रोड और सेंट जॉन्स रोड जैसे क्षेत्र शामिल हैं, ने कैपिटल वैल्यू में 2.1% की वृद्धि के साथ लगभग 19,709 रुपए प्रति वर्ग फुट दर्ज किए गए। मुंबई, जिसमें कफ परेड, नेपियन सी रोड, कोलाबा, लोअर परेल, वर्ली, तारदेव, जुहू, बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स (इङउ), सांताक्रूज (ह), बांद्रा (ह), खार (ह) और प्रभादेवी जैसे क्षेत्र शामिल हैं, में औसत पूंजीगत मूल्य में 0.8% वृद्धि हुई और यह 64,775 रुपए प्रति वर्ग फुट पहुंच गई। 

2019 की तीसरी तिमाही के लिए मुख्य निष्कर्ष