लॉकडाउन में भी रोजाना चल रही घुड़सवारी एकेडमी में घोड़ों की ट्रेनिंग

लॉकडाउन में भी रोजाना चल रही घुड़सवारी एकेडमी में घोड़ों की ट्रेनिंग

भोपाल । खेल संचालनालय के अंतर्गत आने वाली गोरेगांव स्थित घुड़सवारी एकेडमी में लॉकडाउन के दौरान खिलाड़ियों की टेÑनिंग भले ही बंद हो गई है, लेकिन यहां के घोड़ों की टेÑनिंग नियमित रूप से चल रही है। घोड़ों को चार ट्रेनिंग रोजाना ट्रेनिंग दे रहे हैं। उनके डेली रूटीन को मेंटेन रखा जा रहा है। एकेडमी के कोच कैप्टन भागीरथ ने बताया कि कोरोना के कारण खिलाड़ियों की  ट्रेनिंग बंद है। सभी को 31 मई तक छुट्टी दी गई हैं और वह अपने घरों में अपने आप को फिट रखने के लिए प्रैक्टिस कर रहे हैं, लेकिन घोड़ों की डेली  ट्रेनिंग चल रही है। उनकी प्रैक्टिस बंद नहीं की जा सकती है, क्योंकि ऐसा करने पर घोड़ों को गैसेटिक और अन्य कई तरह की परेशनियों का सामना करना पड़ता हैं, इसलिए घोड़ों को रोजाना सुबह और शाम जंप, रनिंग और कई एक्सरसाइज करवाई जा रही हैं।

 35 घोड़ों को दी जाती है ट्रेनिंग

कोच भागीरथ ने बताया कि एक घोड़े को किसी भी एथलिट से ज्यादा ट्रेनिंग की जरूरत होती है। एकेडमी में 35 घोड़े है, जो की अलग-अलग कैटेगरी में शामिल है। इसमें 10 जंपिंग,10 हॉर्स ड्रेसाज, 5 क्रॉस कंट्री और 5 रेस राइडिंग के है। इन्हें सुबह-शाम कैटेगरी के अनुसार ही प्रशिक्षित किया जाता है, जिसमें जंप, लॉग जंप और रनिंग अन्य भी होती है। इससे घोड़ों में स्टेमिना के और पावर में भी ग्रोथ होती हैं। यदि यह  ट्रेनिंग  सुचारू रूप से नहीं दी जाए तो एक समय के बाद घोड़े और राइडर के बीच तालमेल नहीं बन पाता है, इसलिए  ट्रेनिंग  हमेशा चालू रखना पड़ती है।