फसल बीमा योजना को सरल बनाया जाएगा : तोमर

फसल बीमा योजना को सरल बनाया जाएगा : तोमर

नई दिल्ली। सरकार ने खेतों, किसानों और गांवों को स्मार्ट बनाने की प्रतिबद्धता व्यक्त करते हुए आज कहा कि फसल बीमा योजना को दुरुस्त किया जाएगा और किसानों को गांवों में भी भंडारण की सुविधा दिलाने के वास्ते नई ग्रामीण भंडारण योजना शुरू की जाएगी। लोकसभा में वर्ष 2019-20 के लिए ग्रामीण विकास एवं कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालयों के नियंत्रणाधीन अनुदानों की मांगों पर करीब नौ घंटे तक हुई चर्चा का जवाब देते हुए कृषि एवं ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने यह प्रतिबद्धता व्यक्त की। बाद में सदन ने ध्वनिमत से अनुदान मांगों को मंजूरी दे दी। मंगलवार को मध्यरात्रि तक चली चर्चा में 131 सदस्यों ने भाग लिया। श्री तोमर ने स्वीकार किया कि छोटे किसानों की हालत खराब है और उन्हें न्यूनतम पारिश्रमिक तक नहीं मिल पाता है लेकिन शनै: शनै: उनकी आय बढ़ाने के लिए उपाय किये जा रहे हैं। उन्होंने देश में खेती को रासायनिक खादों से मुक्त कर जैविक कृषि की ओर ले जाने का इरादा जताया और कहा कि किसान के चेहरे पर लाली आये और हिन्दुस्तान में खुशहाली आये, यह सरकार की प्रतिबद्धता है। किसानोें की आय बढ़ाने पर जोर - उन्होंने कहा कि किसानों खासकर छोटे किसानों की आय बढ़ाने के लिए चौतरफा प्रयासों की जरूरत है और सरकार सिंचाई सुविधाओं को मजबूत बना कर, सरकारी योजनाओं के मार्फत, सब्सिडी, पेंशन, बीमा योजनाओं, विपणन प्रणाली, न्यूनतम समर्थन मूल्य आदि माध्यम से चौतरफा प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि इस बजट में वित्त मंत्री अन्नदाता को ऊर्जादाता बनाने की योजना की भी घोषणा की है। इससे बंजर भूमि में किसानों को सौर प्लांट लगा कर बिजली बनाने की छूट दी जाएगी और उनकी बिजली को केन्द्र सरकार खरीदेगी। उन्होंने कहा कि देश को 50 खरब यानी पांच ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाना है तो खेतों को स्मार्ट बनाना होगा, किसानों और गांवों को भी स्मार्ट बनाना होगा। नये भारत के निर्माण के लिए देश का किसान भी योगदान करने को तैयार है।