‘मैग्निफिसेंट मप्र’ के लिए आज सीएम कमलनाथ करेंगे मुंबई में ब्रांडिंग

‘मैग्निफिसेंट मप्र’ के लिए आज सीएम कमलनाथ करेंगे मुंबई में ब्रांडिंग

इंदौर। मध्य प्रदेश में निवेश और रोजगार की संभावनाओं की तलाश में मुख्यमंत्री कमलनाथ गुरुवार से अक्टूबर में होने वाली ‘मैग्निफिसेंट मध्यप्रदेश’ समिट के लिए उद्योग समूहों के प्रमुखों से प्रदेश की नई निवेश नीति पर चर्चा करेंगे। केंद्र में उद्योग मंत्रालय और प्रोफेशन में लंबा अनुभव मुख्यमंत्री कमलनाथ को इस क्षेत्र की संभावनाओं के लिए मजबूत पक्ष है। यही वजह है कि बुधवार रात को सीएम और रिलायंस ग्रुप के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने डिनर पर मुलाकात की। सीएम की इस शुरुआत से उम्मीद की जा रही है कि इन्वेस्टर्स समिट के नतीजे पिछली समिट के परिणामों से इस बार कुछ अलग और काफी बेहतर होंगे।

राउंड टेबल कॉन्फ्रेंस

मुख्यमंत्री कमलनाथ मुंबई में रिलायंस ग्रुप के चेयरमैन मुकेश अंबानी, बिरला ग्रुप के कुमार मंगलम, टाटा ग्रुप के चंद्रशेखर, महिंद्रा एंड महिंद्रा ग्रुप के पवन गोयनका, टाटा पावर के प्रवीर सिन्हा, ग्रेसिम के दिलीप गौर, आरपीजी ग्रुप के हर्ष गोयनका, एसीसी सीमेंट के दिलीप अखूरी, अहिल्या हेरीटेज होटल्स के यशवंत होलकर से वन-टू-वन चर्चा करेंगे।

2010-16 तक 47.54 करोड़ खर्च

मुंबई में गुरुवार को होने वाली राउंडटेबल कॉन्फ्रेंस इस बार की पहली ग्राउंड ब्रांडिंग होगी। गौरतलब है कि पिछली चार बड़ी ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट में सिर्फ ब्रांडिंग पर 11.56 करोड़ खर्च हुए थे, जबकि चार इन्वेस्टर्स समिट का कुल खर्च 47. 54 करोड़ था। ब्रांडिंग पर सबसे ज्यादा खर्च 2.83 करोड़ रुपये 2016 में हुई समिट में हुआ था। उद्योग विभाग द्वारा विधानसभा सदस्यों और आरटीआई में अलग-अलग समिट की यह जानकारियां दी गई हैं।

ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में एमओयू और अब तक के वास्तविक निवेश

उद्योग स्थापना, निवेश और रोजगार बढ़ाने के लिए अब तक प्रदेश में 9 समिट हुई हैं। इनमें 5 ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट हैं। चार ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट इंदौर और एक खजुराहो में हुई है। इसके अलावा एनआरआई इन्वेस्टर्स मीट खजुराहो में, इन्वेस्टर्स मीट 2008 जबलपुर में और ग्वालियर में हुई। बुंदेलखंड इन्वेस्टर्स मीट 2008 में सागर में हुई थी।