बच्चों की सेहत से खिलवाड़ कर रहे चॉकलेट निर्माता, गांवों में करते सप्लाई

बच्चों की सेहत से खिलवाड़ कर रहे चॉकलेट निर्माता, गांवों में करते सप्लाई

ग्वालियर। शहर में मिलावट का कारोबार घुन की तरह चॉकलेट, बिस्कुट, कैंडी बनाने वाले कारोबारियों में घुस गया है। प्रशासन को सबकुछ पता है लेकिन वह इन मोटे कारोबारियों पर मेहरबान है। इन जहरीली मिठास बना रहे इन कारोबारियों की फैक्ट्रियां गिरवाई में और थोक कारोबार की दुकानें चावड़ीबाजार में हैं। मजे की बात है कि शनिवार को साढ़े छह क्विंटल चॉकलेट फैक्ट्रियों से बरामद कर नष्ट करा दी गईं हैं लेकिन इन्हीं फैक्ट्रियोें का माल ग्वालियर-अंचल के तमाम ग्रामीण क्षेत्रों की दुकानों पर पहुुंच चुका है और मिलावट और गंदगी से भरे सामान से तैयार की गई इक्लेयर, डिलीसियश,कैंडी और इमली पॉप खा रहे हैं। हद दर्जे की बात है कि सबकुछ आंखों के सामने होते हुए गिरवाई की सभी 12 फैक्ट्रियों के अलावा चावड़ी बाजार की दो दर्जन से अधिक दुकानों के शटर नहीं डलवाए। इन कारोबारियों के पास ब्रांडेड कुछ नहीं हैं हालांकि ब्रांडेड चॉकलेट के नाम पर फर्जीबाड़ा से इंकार भी नहीं किया जा सकता। सूत्रों का कहना है कि गिरवाई में तैयार कर चावड़ी बाजार स्थित थोक दुकानों से चॉकलेट, बिस्कुट अधिकांशत: अंचल के ग्रामीण क्षेत्र की दुकानों पर भेजने वाले कारोबारियों की थोक दुकानें रविवार को कम ही खुलीं। स्थानीय लोगों का कहना है कि गिरवाई में छापे की कार्रवाई के बाद यह सभी कारोबारी उससे निपटने में जुट गए हैं। हालांकि इनका सालाना टर्नओवर करोड़ों में है। इन कारोबारियों के इनकम टैक्स और जीएसटी के बारे में किसी को भी नहीं पता। स्वास्थ्य विभाग से एनओसी का पता नहीं खास बात है कि किसी भी प्रकार का खाद्य पदार्थ बेचने से पहले नगर निगम क्षेत्र में संचालन की अनुमति चाहिए और खाद्य सुरक्षा से भी अनापत्ति प्रमाण पत्र लेना जरूरी है। इन खाद्य पदार्थों में प्रयुक्त होने वाला पानी किस मानक का है, प्यूरीफायर वाटर है या नहीं। यह भी आज तक किसी ने चेक नहीं किया ।

खाद्य विभाग ने फिर पकड़े अमानक कच्चा आम और कैंडी

टीम ने जय मां रतनगढ़ फूड प्रोडक्ट जोकि कच्चा आम, कैंडी मैंगो चुस्की ब्रांड की टॉफी चॉकलेट बनाती है के यहां छापा मारा। यहां से टीम ने कच्चा आम टॉफी के 31 कार्टून भी जब्त किये हैंस जो कि मिस ब्रांड के दायरे में आते हंै। इसी तरह इसी क्षेत्र में नमकीन कुरकुरे बनाने वाली वी के फूड प्रोडक्ट पर छापामार कार्यवाही की। यहां से टीम ने स्पाइस नूडल, रिफाइंड पॉम आयल,स्पायशी मिक्स जब्त की। उधर एक अन्य टीम ने इस नमकीन कुरकुरे बनाने वाली फैक्ट्री से आॅयल,स्पाइस नूडल और मिक्स मसाला प्रोडक्ट के सैंपल लिए हैं जांच रिपोर्ट मिलने के बाद प्रशासन इन कारखानों के खिलाफ कार्यवाही करेगा। खास बात है कि यह दोनों फैक्ट्री वर्ष 2017 से चल रहीं हैं। इसके बाद भी किसी की नजर इन पर नजर नहीं गई।