‘द डेड डोंट डाई’ के प्रदर्शन के साथ शुरू हुआ ‘कान फिल्म फेस्टिवल’

‘द डेड डोंट डाई’ के प्रदर्शन के साथ शुरू हुआ ‘कान फिल्म फेस्टिवल’

कान से अजित राय अमेरिकी फिल्मकार जिम जारमुश की फंतासी ‘द डेड डोंट डाई’ के प्रर्दशन के साथ दुनिया का सबसे बड़ा फिल्मी मेला 72वां ‘कान फिल्म फेस्टिवल’ मंगलवार 14 मई को शुरू हो गया। यह समारोह 25 मई तक चलेगा। फ्रांस के रमणीक पर्यटन ग्राम कान में प्रतिवर्ष होने वाले इस फिल्मोत्सव में दुनिया के 120 देशों के लगभग 40 हजार प्रतिनिधि और करीब पांच हजार फिल्म पत्रकार भाग ले रहे हैं। समारोह के निर्देशक थेरी फे्रमों ने पिछले महीने पेरिस में घोषणा की थी कि इस बार ‘रोमांस और राजनीति’ मुख्य विषय होगा। बाबेल, 21 ग्राम, बर्डमैन जैसी फिल्मों से चर्चित मैक्सिको के फिल्मकार अलेजांद्रो गोंजालेज इनारितू को कान फिल्म समारोह ने जूरी का अध्यक्ष बनाया है। कान फिल्म समारोह के इतिहास में पहली बार किसी मैक्सिको के फिल्मकार को जूरी का अध्यक्ष बनाया है। लेबनान की नदिन लाबाकी को ‘अन सर्टेन रिगार्ड’ खंड की जूरी का अध्यक्ष बनाया गया है। 1979 में कंबोडिया में हुए भीषण नरसंहार से किसी तरह जीवित बचकर पेरिस में शरणार्थी का जीवन जी रहे रिथि पांह को ‘कैमरा डि ओर’ की जूरी का अध्यक्ष बनाया गया है।

‘वंस अपॉन अ टाइम इन हॉलीवुड’ की है समारोह में चर्चा

72वें कान फिल्म समारोह के सबसे प्रतिष्ठित प्रतियोगिता खंड में अमेरिकी दिग्गज फिल्मकार क्वेंतिन तारंतीनो की नई फिल्म ‘वंस अपॉन अ टाइम इन हॉलीवुड’ चर्चा में है, जिसमें ब्रैड पिट और लियोनार्दो डीकैप्रियो ने मुख्य भूमिका निभाई है। कान के निर्देशक थेरी फे्रमों ने बयान जारी किया है कि अपने कलाकारों के साथ तारंतिनो पिछले चार महीने से इस फिल्म के एडिटिंग स्टूडियो से बाहर नहीं निकले हैं। मशहूर स्पेनिश फिल्मकार और कान की जूरी के अध्यक्ष रहे पेद्रो अलमोदोवार की ‘पेन एंड ग्लोरी’ और ‘ब्लू इज दि वार्मेस्ट कलर’ से चर्चित अब्दुल लतीफ केचिचे की फिल्म ‘मकतब माय लव इंटरमेजो’ भी इसी खंड में हैं। ब्रिटेन के केन लोच की फिल्म ‘सारी वीं मिस्ड यूं’ और कनाडा के जेवियर दोलान की ‘मैथियास एंड मैक्समी’ की भी चर्चा है। प्रतियोगिता खंड में तीन हजार फिल्मों में से कुल 21 फिल्में चुनी गई हैं। इसी तरह ‘अन सर्टेन रिगार्ड’ खंड में युवा फिल्मकारों की 18 फिल्में चुनी गई हैं।

स्पेशल स्क्रीनिंग में होंगी 10 फिल्में

मिडनाइट स्क्रिनिंग की दो फिल्मों में से एक ‘लव’ फिल्म से बेतहाशा चर्चित गास्पर नोए की ‘लक्स अटेर्ना’ का इंतजार है। स्पेशल स्क्रिनिंग में दस फिल्में हैं। आउट आॅफ कंपटीशन की पांच फिल्मों में ब्रिटेन के आसिफ कपाड़िया की फिल्म ‘डियागो माराडोना’ को लेकर काफी उत्साह है। 4240 शार्ट फिल्मों में से केवल 11 को ही जगह मिल पाई है। इसी तरह दुनिया भर के फिल्म स्कूलों से आई दो हजार फिल्मों में से कुल 17 का चयन हुआ है। पांच डॉक्यूमेंट्री और कान क्लासिक में 22 फिल्में हैं, जिनमें ज्यां रेनुआ, आंद्रे वाजदा, विट्टोरियो डे सिका, स्टेनले क्यूब्रिक, ओलीवर स्टोन और लूई बुनुएल की संरक्षित फिल्में दिखाई जाएंगी।

पिछले वर्ष की तरह इस बार भी सेल्फी पर रहेगा बैन

आॅफिशियल सेलेक्शन में सभी खंडों को मिलाकर कुल 111 फिल्में दिखाई जाएंगी। पिछले साल की तरह इस साल भी कान ने फिल्मों के आॅनलाइन वितरण की बहस को समाप्त करते हुए नेटμिलक्स कंपनी की फिल्मों को प्रतिबंधित कर दिया है। इसी तरह रेड कारपेट पर सेल्फी लेने की भी मनाही होगी।

फिक्की लगा रही है भारतीय पैवेलियन : इस बार भारत सरकार के लिए कान फिल्म समारोह में भारतीय उद्योगपतियों की संस्था फिक्की भारतीय पैवेलियन लगा रही है। इससे एक लाभ जरूर हुआ है कि भारतीय फिल्मकारों को नेटवर्किंग की सुविधा मिल जाती है। आॅफिशियल सेलेक्शन में तो नहीं, पर फिल्म बाजार में इस बार भारतीय फिल्मकारों की भागीदारी बढ़ाने की कोशिश की जा रही है।