खून की कमी से जूझ रहा एमवायएच का ब्लड बैंक, मरीज हो रहे परेशान

खून की कमी से जूझ रहा एमवायएच का ब्लड बैंक, मरीज हो रहे परेशान

इंदौर ।  गर्मी के सीजन में एमवाय अस्पताल का ब्लड बैंक खून की कमी से जूझ रहा है। रोजाना 100 से 150 यूनिट खपत वाले इस ब्लड बैंक में मात्र 50 से 60 यूनिट ब्लड ही उपलब्ध हो पा रहा है, जिसके चलते ब्लड बैंक में लगातार खून की कमी बनी हुई है। यहां ब्लड मुहैया न हो पाने के कारण कई मरीज परेशान हो रहे हैं। ए पॉजीटिव और एबी पॉजीटिव ग्रुप का ब्लड मिलने में सबसे ज्यादा परेशानी आ रही है। वहीं अस्पताल प्रशासन ने भी ब्लड दिए जाने को लेकर सख्ती कर दी है। केवल इमरजेंसी केस वाले मरीजों को ब्लड दिया जा रहा है। बाकी मरीजों के परिजन से रक्तदाता लाने को कहा जा रहा है। एमवायएच में शहर का सबसे बड़ा ब्लड बैंक है। यहां रोजाना लगभग 150 यूनिट खून की खपत होती है। चाचा नेहरू अस्पताल पहुंचने वाले थैलेसीमिया के मरीज भी इसी ब्लड बैंक में पहुंचते हैं। हर रोज लगभग 35 से 40 बच्चों को ब्लड की आवश्यकता होती है, वहीं अप्रैल, मई व जून माह में वायरल इन्फेक्शन का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में कई मरीजों को ब्लड की आवश्यकता होती है। गर्भवती महिलाओं को प्रसव के दौरान भी ब्लड की कमी होती है। इसके अलावा अन्य आॅपरेशन के दौरान भी मरीज को ब्लड की जरूरत पड़ती है। ऐसे में इसका स्टॉक पूरा होना बेहद जरूरी होता है। लेकिन गर्मी के समय कैंप कम लगने से एमवाय अस्पताल में ब्लड की कमी लगातार बनी हुई है, जिसके चलते मरीजों को समान ब्लड ग्रुप के डोनर को खोजकर लाने व ब्लड देने के बाद ही उस ग्रुप का ब्लड उपलब्ध हो पा रहा है।

इनका कहना है सास को कैंसर है।

* अस्पताल से बी पॉजीटिव ब्लड के लिए भेजा गया था। अब यहां बोल रहे हैं कि डोनर लेकर आओ, तब ही ब्लड मिल पाएगा। अब डोनर तलाश कर रहे  हैं।

* ज्योति सोलंकी, निरंजनपुर दोस्त का आपरेशन होना है। ए पॉजीटिव ब्लड की आवश्यकता है। ब्लड बैंक ने डोनर लाने के लिए कहा है। कहां से व्यवस्था करें, समझ ही नहीं आ रहा। अब परिवार वालों को जानकारी दी है, ताकि वे आकर व्यवस्था कर सकें।

* जयप्रीत पटेल, इंदौर अधिकतर ब्लड कॉलेज स्टूडेंट्स और कैंपों के माध्यम से उपलब्ध होता है। गर्मियों के दिनों में कैंप कम लग रहे हैं और ब्लड डोनेट करने वालों में भी कमी आई है। वहीं चुनावों का भी इस पर प्रभाव पड़ा है। हमने सामाजिक संस्थाओं और वाट्सएप ग्रुपों के माध्यम से लोगों से मदद का अनुरोध किया है। कुछ लोग मदद के लिए आगे आकर ब्लड डोनेट भी कर रहे हैं।