भाजपा सरकार ने मास्टर प्लान की आत्मा को मृत प्राय: कर दिया: दिग्गी

भाजपा सरकार ने मास्टर प्लान की आत्मा को मृत प्राय: कर दिया: दिग्गी

भोपाल। दिग्विजय ने कहा कि भोपाल का विकास मेरे समय में बने वर्ष 2005 तक के मास्टर प्लान के आधार पर हुआ है, लेकिन भाजपा सरकार ने उसकी आत्मा को मृत प्राय: कर दिया था। हर दस साल में मास्टर प्लान लाया जाता है, जिसमें बडेÞ शहरों में कौन से रेसिडेंशियल एरिया होगा, कौन सा क्षेत्र ग्रीन क्षेत्र बनेगा, वाटर प्लान होगा और इसके लिए जनता से सुझाव मांगे जाते है, लेकिन ‘मामा की सरकार कमाई में लगी हुई थी, जहां चाहो प्लाट काटो और कमाई करो’। पीसीसी में पत्रकारों से चर्चा काते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा कि वर्ष 2006 का मास्टर प्लान 2010 में आया और 2015 का प्लान अभी तक नहीं आया। उन्होंने आरोप लगाया कि राजाभोज के दौरान निर्मित बडे तालाब का संरक्षण नहीं हो पाया, मोदीजी के दिमाग में नहीं था कि ये स्मार्ट सिटी क्या है। हम यदि बडे शहर बैंगलोर, हैदराबाद, पूणे, नागपुर की बात करें, तो वहां विकास देखने को मिलता है, परन्तु भोपाल इन शहरों से काफी पीछे छूट गया, जबकि इस शहर को ग्लोबल सिटी बनाया जा सकता है।

पुराने शहर में होगी दिक्कत

एक सवाल के जवाब में दिग्विजय ने कहा कि पुराने भोपाल को विकसित करने में काफी समस्याएं आएगी। क्योंकि हमीदिया अस्पताल को ज्यादा विकसित कर दिया गया है और जब ये पूरी तरह विकसित हो जाएगा, तो मरीजों की संख्या बढ़ जाएगी। उन्होंने कहा कि पुराने भोपाल को विकसित करना किसी के बूते में नहीं है।

पेरिस सिटी नहीं वास्तविक भोपाल बनेगा

पूर्व सीएम बाबूलाल गौर द्वारा भोपाल को पेरिस सिटी की तरह विकसित किए जाने के सवाल पर दिग्विजय ने कहा कि भोपाल को हम पेरिस सिटी नहीं, लेकिन हम भोपाल की संस्कृति, तहजीव, वास्तविक भोपाली की तरह विकसित करेंगे और इसके लिए विश्व की तकनीक का उपयोग करते हेरिटेज बिल्डिंग को डिजाइन किया जाएगा।