कश्मीर में बड़ी घुसपैठ की फिराक में आतंकी, POK में बनाए 16 नए कैंप

कश्मीर में बड़ी घुसपैठ की फिराक में आतंकी, POK में बनाए 16 नए कैंप

नई दिल्ली। भारतीय खुफिया एजेंसियों के इनपुट से खुलासा हुआ है कि एलओसी के पार पीओके में 16 आतंकी कैंप सक्रिय हैं। एजेंसियों की मानें तो इन कैंपों में दहशतगर्दों को घाटी में घुसपैठ की ट्रेनिंग दी जा रही है। खुफिया एजेंसियों के इस इनपुट पर सुरक्षा बल चौकन्ने हो गए हैं। सेना के सूत्रों ने बताया कि खुफिया एजेंसियों ने जो इनपुट साझा किया है, उसके मुताबिक पाकिस्तानी सेना और आईएसआई घुसपैठ कराने की फिराक में हैं। पाक सेना और आईएसआई की कोशिशों पर सेना की कड़ी निगाह है। सुरक्षा बल आतंकियों की किसी भी कायराना हरकत का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए तैयार है। नहीं मिल रहा स्थानीय युवाओं का समर्थन पुलवामा हमले के बाद आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद को तगड़ा झटका लगा है। उसे कश्मीर घाटी में स्थानीय युवाओं का समर्थन नहीं मिल रहा है। सुरक्षा बल भी अपने आॅपरेशनों के जरिए उसके कॉडर को तबाह करने में जुटे हैं।

आतंकियों की लीडरशिप का हो रहा सफाया

सूत्रों ने बताया कि भारतीय सेना जम्मू-कश्मीर से आतंकियों की लीडरशिप का सफाया करने के लिए पूरी शिद्दत के साथ काम कर रही है। इसे पुलवामा हमले के बाद के अभियानों में जैश के ठिकानों के सफाये के तौर पर देखा जा रहा है। हाल ही में जाकिर मूसा के खात्मे के बाद आतंकी संगठनों में हताशा का माहौल है।

आईएस के इशारे पर काम कर रहे जिहादी समूह

वहीं सेना के एक अधिकारी ने बताया कि इस्लामिक स्टेट से जुड़े कुछ जिहादी समूह युवाओं को प्रभावित करने की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि भारतीय सेना और सुरक्षा एजेंसियां आईएस को लेकर अलर्ट हैं और उनके प्रयास को नाकाम करने में लगी हैं।

बॉर्डर पर तैनात हुए अमेरिका और इटली में ट्रेंड एलीट स्नाइपर कमांडो

इधर पाकिस्तान से लगती सीमा और नियंत्रण रेखा पर अमेरिका और इटली में प्रशिक्षण लेकर आए एलीट स्नाइपर कमांडो भारतीय सेना ने तैनात किए हैं। स्पेशल यूनिट्स के कमांडो दस्ते को बरेटा प्वाइंट 338 लापुआ मैग्नम स्कॉरपियो टीजीटी और बैरेट प्वाइंट 50 कैलिबर एम95 राइफलों से लैस किया गया है। ये राइफलें हल्की हैं और 1800 मीटर दूरी तक सटीक मार करने में सक्षम हैं। बर्फ पिघलने के साथ सीमा पार से आतंकवादियों की घुसपैठ शुरू हो जाती है।

अमेरिका में बरेट एम95 की रेंज है 1800 मीटर

भारतीय सेना के स्नाइपर कमांडो को जो नई राइफलें उपलब्ध कराई जा रही हैं, उनमें अमेरिका में निर्मित बरेट एम95 राइफलों को एंटी- मैटीरियल (धातु वेधने में सक्षम कारतूस) राइफल कहा जाता है। इनकी रेंज 1800 मीटर तक है। इस राइफल को दुनिया के कई बड़े देशों के विशेष कमांडो दस्ते इस्तेमाल कर रहे हैं। 10 किलो वजन की इन राइफलों की कारतूस प्वाइंट-5 ब्राउनिंग मशीन गन के कारतूसों के आकार की होती हैं।

इटली में निर्मित राइफल की रेंज है 1500 मीटर

कमांडो को जो दूसरी राइफल दी गई है, वह इटली की कंपनी बरेटा द्वारा बनाई गई प्वाइंट 338 लापुआ मैग्नम स्कॉरपियो टीजीटी है। इस राइफल का इस्तेमाल अमेरिकी सेना अफगानिस्तान और ईराक में कर चुकी है। यह राइफल 1500 मीटर तक मार कर सकती है। दुनिया के 30 बड़े देशों के एलीट कमांडो इन राइफलों का इस्तेमाल कर रहे हैं। सेना की मांग पर जल्द ही भारत में इन राइफलों और इनके कारतूसों का उत्पादन करने की योजना तैयार की जा रही है।