भाजपा को मिलेगा पूर्ण बहुमत : मोदी

भाजपा को मिलेगा पूर्ण बहुमत : मोदी

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मौजूदा लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की पूर्ण बहुमत की सरकार फिर से बनने का शुक्रवार को दावा किया और कहा कि नयी सरकार जल्दी काम करना शुरू कर देगी। श्री मोदी ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के साथ पार्टी मुख्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि उनका मानना है कि 2014 की तरह ही 2019 में भी भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार बनेगी। उन्होंने कहा, ‘‘मेरा मोटा मोटा मत है कि पूर्ण बहुमत वाली सरकार पांच साल का कार्यकाल पूरा करने के बाद फिर जीतकर सत्ता में आ रही है और लंबे अर्से के बाद ऐसा होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि देश की जनता को 2014 के बाद 2019 में फिर से मौका मिला है। जनता ने सरकार बनाना तय कर लिय है। देश को आगे बढ़ाने के लिए क्या करना है, उसे हमने अपने संकल्प पत्र में शामिल किया है और इस सरकार की विशेषता है कि उसका जोर किसी भी योजना का फायदा अंतिम से अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने पर रहता है। उन्होंने कहा कि जल्दी से जल्दी नयी सरकार अपना काम शुरू कर देगी।मोदी पांच साल के कार्यकाल में पहली बार औपचारिक रूप से संवाददाता सम्मेलन में आये लेकिन उन्होंने कोई सवाल नहीं लिया। उनसे सीधे सवाल पूछे जाने पर उन्होंने श्री शाह की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘‘अध्यक्ष ही हमारे लिए सब कुछ होते हैं।’’उन्होंने कहा कि उनके लिए यह चुनाव अभियान देश की जनता को धन्यवाद देने का अभियान था। वह चुनाव प्रचार के लिए जब निकले थे, तो उन्होंने कहा था, ‘‘जब मैं चुनाव के लिए तो मन बनाकर निकला था, और अपने को उसी धार पर रखा। मैंने देशवासियों को कहा था कि पांच साल पहले देश ने जो आशीर्वाद दिया उसके लिए मैं धन्यवाद देने आया हूं। अनेक उतार चढ़ाव आये, लेकिन देश साथ रहा। मेरे लिए यह चुनाव जनता जर्नादन के धन्यवाद का अभियान था।’’ उन्होंने कहा कि वह मीडिया को भी धन्यवाद करने आये हैं और मीडिया के माध्यम से देशवासियों का भी। उन्होंने कहा कि पिछली बार चुनाव परिणाम 16 मई 2014 को आया था और अगले ही दिन 17 मई को ‘कैजुअल्टी’ हुई थी, सट्टेबाजों को मोदी की ‘हाजिरी’ का भारी नुकसान हुआ था। सट्टा लगाने वाले सब के सब डूब गये थे और ईमानदारी की शुरुआत उसी दिन हो गयी थी। आंतरिक सुरक्षा के मामले में अपनी सरकार की उपलब्धि की ओर इशारा करते हुए श्री मोदी ने कहा कि 2009 और 2014 में चुनाव की खातिर इंडियन प्रीमियम लीग (आईपीएल) का आयोजन विदेश में करना पड़ा था, लेकिन इस बार आईपीएल को बाहर नहीं ले जाना पड़ा। आईपीएल, चुनाव, ईस्टर, नवरात्र, रामनवमी, हनुमान जयंती और रोजे सभी साथ-साथ चले हैं। यह देश के लोकतंत्र की ताकत है। उन्होंने कहा कि दुनिया को भारतीय लोकतंत्र की ताकत से अवगत कराया जाना चाहिए। यह लोकतंत्र विविधताओं से भरा है। श्री मोदी ने कहा कि चुनाव अभियान की शुरुआत से ही उनमें जो उत्साह और उमंग था वह अंत तक बना रहा। उसी उत्साह से मीडिया के बीच आया हूं और इसके बाद सरकारी कामों में जुट जाऊंगा। उन्होंने कहा कि काफी लंबे चुनाव अभियान के दौरान उनका एक भी चुनाव कार्यक्रम या रैली रद्द नहीं हुई। प्रधानमंत्री ने कहा कि भाजपा ने यह दिखाया के संगठन के आधार पर चुनाव कैसे लड़ा जाता है। आखिरी से आखिरी लाभार्थी से सम्पर्क किया गया। देश की नयी पीढ़ी को यह पता चलना चाहिए कि संगठन और व्यवस्था कैसे चलती है। पार्टी बहुत सोच समझकर कार्यक्रम बनाती है। उनकी पहली सभा मेरठ में हुई थी और आखिरी मध्य प्रदेश में हुई। इन दोनों में आपस में संबंध है। दोनों 1857 की क्रांति से जुड़े हुए हैं।